आखिर कौन थे गुरबख्श सिंह खालसा जिनकी मौत पर इतना बवाल मचा है…

0
936
कुरूक्षेत्र के ठसका गांव में पुलिस फोर्स तैनात है। सिख संगत के बड़े बड़े दिग्गज वहां पहुंच रहे हैं। गुरबख्श सिंह खालसा की मौत के बाद से इस गांव में पुलिस तैनात है। सिख संगत गुरबख्श का अंतिम संस्कार करने को तैयार नहीं है और इसके चलते तनाव बना हुआ है लेकिन गुरबख्श सिंह थे कौन ? उनकी मौत पर इतना हंगामा क्यों बरपा है ? आइये हम आपको बताते हैं गुरबख्श सिंह खालसा की पूरी कहानी…
– सिख कैदियों की रिहाई के संघर्ष का जाना माना नाम
– गुरबख्श सिंह का जन्म 12 दिसंबर 1965, कुरूक्षेत्र, हरियाणा
– नवंबर 2013 में सिख कैदियों की रिहाई के लिए पहली लड़ाई
– 44 दिन तक भूख हड़ताल पर बैठे थे गुरबख्श सिंह खालसा
– जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह के कहने पर तोड़ा था अनशन
– जत्थेदार ने राज्य सरकार के सामने मामला रखने का दिया था आश्वासन
– अनशन तोड़ने के बावजूद सिख कैदियों की रिहाई पर काम नहीं हुआ
– 14 नवंबर 2014 को गुरबख्श सिंह ने फिर से अनशन शुरू किया
– गुरूद्वारा लखनौर साहिब में अनशन 64 दिन चला
– तबीयत बिगड़ने पर गुरबख्श सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया
– 15 जनवरी 2014 को उन्होंने दोबारा अपना अनशन तोड़ा
– मार्च 2018 में गुरबख्श सिंह ने फिर से अनशन शुरू किया
– कुरूक्षेत्र के गांव ठसका में पानी की टंकी पर अनशन शुरू किया
– मांग न माने जाने पर नाराज गुरबख्श सिंह टंकी से कूद गए