बच्ची की लाश के ऊपर से एक के बाद एक कई ट्रक निकल गए…

एक तरफ इस पिता की चीखें हैं….दूसरी तरफ सड़क पर बिखरा 3 साल की बच्ची का शरीर…शरीर की हालत ऐसी…कि देखने वाले का कलेजा अंदर तक हिल जाए…जब 3 साल की मासूम के ऊपर से एक के बाद एक कई ट्रक एक झटके में गुजर जाए…तो लाश में लाश कहे जाने लायक भी कुछ नहीं बचता…यमुनानगर के साढौरा में…इस तीन साल की बच्ची के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ…घर के बाहर गली में बच्ची खेल रही थी…अचानक माइनिंग में इस्तेमाल ट्रक आए…पहले ट्रक ने बच्ची को कुचल दिया….और पीछे चल रहे ट्रक बच्ची की लाश को कुचलते हुए एक के बाद एक…आगे निकल गए….
बच्ची का शरीर सड़क पर पिस गया…देखने वालों को लाश ने अंदर तक झकझोर दिया…बच्ची के शरीर का नामोंनिशान मिट गया…बच्ची के पिता को गहरा सदमा लगा है…क्या हुआ…कैसे हुआ…कुछ समझ नहीं आ रहा है…और जिस कानून की नाक के नीचे अवैध माइनिंग का ये काला कारोबार फल फूल रहा है…उस कानून के कर्ताधर्ता…मुंह लटकाए…तमाशा देखते रहे….
ट्रक वालों का तो पता नहीं…लोगों का गुस्सा थाने में मौजूद पुलिसवालों पर टूट पड़ा…लोगों ने हंगामा किया…तोड़फोड़ की…गुस्सा इतना था…कि पुलिसवालों ने खुद को थाने में बंद कर दिया…बाद में और पुलिसफोर्स मंगाई गई…तब जाकर हालात काबू में हुए…लेकिन तब तक एक पिता अपनी बेटी खो चुका था…एक 3 साल की नन्ही जान दुनिया छोड़ चुकी थी…और अवैध माइनिंग का काला कारोबार…फिर से अपने रोज के काम में जुट गया था…और कानून…वो अब भी तमाशा देख रहा है….