हरियाणा

'मिमिस व्हीलचेयर वर्ल्ड 2022 में हिस्सा लेंगी पंचकूला की सौम्या, थ्रिलर फिल्म से कम नहीं हैं इनकी जिंदगी की कहानी

By Vinod Kumar -- July 21, 2022 1:50 pm -- Updated:July 21, 2022 6:28 pm

दुनिया मे आने के बाद अभी ठीक से आंखें भी नही खुली थी कि घर मे काम करने वाली मेड के हाथों गिर गयी। परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे तो पता चला कि हिप डिस लोकेट हो गयी आई। डॉक्टरों ने ठीक करने के लिए हड्डी खिंची तो दो जगह से फ्रेक्चर हो गयी फिर पता चला कि 11 दिन की बच्ची अब अपने शरीर का भार भी सहन नही कर पाएगी वो कभी भी अपने पैरों पर खड़ी नही हो पाएगी।

25 साल की होते होते न जाने कितने ही ऑपरेशन हो गए। अपनी इच्छा शक्ति और परिवार के सहयोग से धीरे धीरे ज़िंदगी सही होने लगी। व्हीलचेयर अब कमज़ोरी नहीं हिम्मत बन गयी थी, लेकिन फिर अचानक एक और काला दिन ज़िंदगी मे आया और भयानक सड़क हादसा हो गया। उस हादसे ने घुटनो के साथ साथ रीढ़ की हड्डी पर भी असर डाला जिस वजह से 2 साल बिस्तर पर रहना पड़ा, लेकिन एक बार फिर अपने हौंसले और ज़िंदगी जीने के जज़्बे ने उसे न सिर्फ थोड़ा ठीक किया, बल्कि पूरी दुनिया मे छाने का मौका दे दिया। ये किसी फिल्म की कहानी नही है बल्कि पंचकूला की रहने वली 27 साल की सौम्या ठाकुर की असली हक़ीक़त है। सौम्या ठाकुर अब अक्तूबर में मेक्सिको में होने वाली 'मिस व्हीलचेयर वर्ल्ड 2022 कॉनटेस्ट' में देश का प्रतिनिधित्व करेंगी।

वह एक निजी कंपनी के साथ एक एचआर प्रोफेशनल के रुप में कार्यरत हैं और साथ ही अपने ब्यूटी पैशन को भी संतुलित कर रही है। PTC News से बातचीत करते हुए सौम्या ने बताया कि इसी वर्ष भारत से कई प्रतिभागियों के साथ उन्होंने इस प्रतिष्ठित आयोजन के लिये आवेदन किया था। मैक्सिको सरकार से प्रमाणित जैडिना टाका फाउंडेशन द्वारा यह आयोजन किया जाता है।

कई दौर के इंटरव्यू और मेक्सिको की एक नामी मैगजीन में छपी इंटरव्यू के बाद सौम्या को ‘मिस व्हीलचेयर वर्ल्ड इंडिया 2022‘ के रुप इस आयोजन में भाग लेने के लिये न्यौता दिया गया। उन्होंने बताया कि सौंदर्य प्रतियोगिता में भारत के साथ साथ ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, मलेशिया, नीदरलैंड, स्पेन, रूस और यूक्रेन सहित लगभग 30 अन्य देशों के मॉडल्स प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। प्रतियोगिता में भाग लेने के लिये उत्साहित सौम्या ने बताया कि वे लोको मोटर डिसेबिलिटी और स्कोलियोसिस से ग्रस्त हैं जिसके चलते उनकी टांगों की मांसपेशियां कमजोर हैं और वे शरीर का भार नहीं उठा सकती। इसके लिये उन्हें व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ा। बावजूद इसके सौम्या ने जीवन में हार न मानते हुये अपनी शिक्षा पूरी की और अपने माता पिता पर बोझ न बनते हुये अपने करियर को आयाम दिया।

सौम्या अपने प्रोफेशन और पैशन के साथ साथ ऐसी ही मनोस्थिति में असहाय युवाओं में आत्मविश्वास जागृत करती हैं। वह रोटरी अभियान के अंतर्गत पॉजिटिव एबिलिटी रोट्रेक्ट क्लब की महासचिव है और असंख्य को मोटिवेशनल स्पीकर के रुप में जीने की राह सिखाती हैं। गत वर्षो में उन्होंनें रोटरी संगठन के साथ कई सामाजिक कार्यो में बढ़चढ़ कर भाग लिया है और समाज के लिये एक उदाहरण पेश किया है। मैक्सिको का आयोजन यह उनके लिये पहला इंटरनेशनल एक्सपोजर है, लेकिन इससे पूर्व सौम्या कई राष्ट्रीय स्तर के आयोजन में अपनी खूबसूरती और जज्बे के जलवे बिखेर चुकी है। चेन्नई में व्हीलचेयर पर फैशन शो आयोजन कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की दिशा सौम्या ने भी अपनी खूबसूरती के लिये प्रशंसा प्राप्त की थी। वह मिस कोजीनूर इंडिया 2019 में रनर अप भी रह चुकी है। उन्हें वूमेन एचीवर्स और नेशनल ग्रेट आइकन अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है। सौम्या आश्वस्त है कि इस ग्लोबल प्लेटफार्म पर वह देश की विरासत और संस्कृति का बखूबी प्रसार कर पाएंगे जिसके लिये उन्हे देशवासियों और सरकार के सहयोग की दरकार है ताकि वे आयोजन से पूर्व दो महीने में अपनी तैयारियों को अंजाम दे सके।

  • Share