सिकम्म में एक ओर गुरुद्वारा साहिब को नोटिस जारी होने बाद में ग्रह मंत्री राजनाथ सिंह ने किया हस्तक्षेप

सिकम्म में एक ओर गुरुद्वारा साहिब को नोटिस जारी होने बाद में ग्रह मंत्री राजनाथ सिंह ने किया हस्तक्षेप
सिकम्म में एक ओर गुरुद्वारा साहिब को नोटिस जारी होने बाद में ग्रह मंत्री राजनाथ सिंह ने किया हस्तक्षेप

– सिकम्म के मुख्यमंत्री को दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के प्रतिनिधि मंडल के साथ बातचीत करने के लिए कहा
– दिल्ली कमेटी के वफद ने गुरुद्वारा साहिबान की स्थिति की जानकारी ग्रह मंत्री को दित्ती

नई दिल्ली: केंद्रीय ग्रह मंत्री राजनाथ सिंह को आज सिकम्म में गुरुद्वारा साहिबान के मामले पर उपजे संकट में हस्तक्षेप करना पड़ा, जब राज्य के उत्तरी जिले के एक ओर गुरुद्वारा साहब गुरुद्वारा चुंगथांग को स्थानीय आधिकारियों ने नोटिस जारी कर दिया। ग्रह मंत्री ने सिकम्म के मुख्यमंत्री श्री पवन कुमार चैमलिंग को कहा है कि वह रविवार को सिखों के प्रतिनिधि मंडल के साथ मीटिंग करें जिससे यह मसला बातचीत के द्वारा शांतिपूर्वक ढंग के साथ निपटाया जा सके।

यह मामला आज ग्रह मंत्री के पास उच्च स्तरीय सिख प्रतिनिधि मंडल ने उठाया जिस में दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डी.एस.जी.एम.सी.) के प्रधान श्री मनजीत सिंह जी.के, महासचिव श्री मनजिंदर सिंह सिरसा, भारतीय अल्पसंख्यक कमीशन के पूर्व चेयरमैन श्री तरलोचन सिंह, श्री कुलदीप सिंह भोगल राष्ट्रीय संगठन सचिव शिरोमणी अकाली दल और श्री परमजीत सिंह राणा मैंबर दिल्ली कमेटी और पार्षद शामिल थे। प्रतिनिधि मंडल ने सुबह ग्रह मंत्री के साथ मुलाकात करके उन को इस मामले पर एक लिखित मांग पत्र भी सौंपा।

प्रतिनिधि मंडल ने उनके ध्यान में लाया कि कुछ दिन पहले सिकम्म के गुरुद्वारा गुरू डोंगमार में श्री गुरु ग्रंथ साहब जी का स्वरूप और धर्म के साथ संबंधित अन्य वस्तुएं गुरुद्वारा साहब की इमारत में से बाहर कर दीं गई थीं और अब स्थानीय आधिकारियों ने एक अन्य गुरुद्वारा साहब जो कि उत्तरी जिले में स्थित चुंगथांग गुरुद्वारा साहब है, की मैनेजमेंट को नोटिस जारी कर दिया है और इस में नाजायज कब्जे के आरोप लगाए हैं। प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने हैरानी प्रकट की कि जंगलों में स्थित एक गुरुद्वारा साहब की तरफ से नाजायज कब्जा कैसे किया जा सकता है और उन्होंने आशंका जाहिर की कि राज्य में सिख भाईचारे और गुरुद्वारा साहिबान के खिलाफ कोई साजिश रची जा रही लगती है। उन्होंने ग्रह मंत्री से अपील की कि वह सिकम्म सरकार को हिदायत करने कि किसी भी सिख गुरुद्वारा साहब में न कोई तोडफ़ोड़ हो और न इन के साथ छेड़छाड़ की जाए।

ग्रह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने इस मामले का गंभीर नोटिस लिया और उन्होंने तुरंत सिकम्म के मुख्यमंत्री श्री पवन कुमार चैमलिंग के साथ सम्पर्क बनाया। उन्होंने दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के इस सिख प्रतिनिधि मंडल को भी कहा कि वह कल सिकम्म जा कर मुख्य मंत्री के साथ मीटिंग करें, जिससे यह मामला जल्दी से जल्दी और शांतीपूर्ण ढंग के साथ हल किया जा सके।

प्रतिनिधि मंडल ने ग्रह मंत्री के यह भी ध्यान में लाया कि सिकम्म के कानून मंत्रालय की तरफ से 6.11.92 को एक नोटिफिकेशन भी जारी किया गया था जिस में ऐलान किया गया था कि राज्य में 15 अगस्त 1947 को धार्मिक स्थानों की जो स्थिति थी, वही बरकरार रहेगी और इन के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं होगी।

प्रतिनिधि मंडल ने यह भी बताया कि सिख भाईचारा 1969 से इन गुरुद्वारा साहब में मर्यादा अनुसार काम कर रहा है और उन्होंने पहले की तरह ही गुरू ग्रंथ साहब का स्वरूप सुशोभित करें और पूरा मान सत्कार बनाऐ जाने की अपील की जैसे कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने गुरुद्वारा गुरू डोंगमार के मामले में हिदायत की है।

—PTC News