हाईकोर्ट ने क्यों दिए तीन सरकारों को नोटिस … डेगू को लेकर हालात गम्भीर…..

हरियाणा के साथ-साथ पंजाब और चंडीगढ़ में डेगी को लेकर हालात कितने गंभीर है, इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि स्वयं हाईकोर्ट ने इस का नोटिस लिया है। पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने इन तीनों राज्यों को नोटिस जारी करते हुए इन्हें ताकीद की है कि वे 2 नवम्बर को कोर्ट में डेंगी की स्थिति को लेकर स्टेप्स रिपोर्ट दायर करें।

 

इस मामले में अदालत की सहायता करने के लिए वरिष्ठ वकील अनुपम गुप्ता को एमाइकस क्यूरी नियुक्त किया गया है। न्यायमूर्ति ए.के. मितल और न्यायमूर्ति अमित रावल पर आधारित खंड पीठ ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि इन तीनों राज्यों की सरकारें डेंगी पर काबू पाने के लिए प्रभावी कदम नहीं उठा रही हैं।

 

अगर उत्तर पश्चिम भारत की बात की जाए तो इस सीज़न में डेंगी के मामले 15000 के आसपास पहुंच चुके हैं हालांकि हरियाणा सरकार का दावा है कि प्रदेश में हालात पड़ोसी राज्यों से बेहतर हैं। स्वास्थय विभाग के वैक्टर जनित रोग विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. राजेश ख्यालिया के मुताबिक हरियाणा में डेगी के अब तक 1863 मामले सामने आए है। मलेरिया के 5532 मामले भी इस सीज़न में सामने आए हैं। जापानी बुखार का एक और चिकनगुनिया के केवल दो ही मामले रिपोर्ट हुए हैं। डेंगी के सबसे ज्यादा मामले रोहतक में रिपोर्ट हुए हैं। यहां 253 लोग डेंगी का शिकार बने हैं। हिसार में 226 अम्बाला में 179 और फतेहाबाद में 168 मामले सामने आए हैं।