मुंह से बोला नहीं जाता, लेकिन इशारों से मतदान के लिए करती हैं लोगों को जागरूक

Maya Kaur
मुंह से बोला नहीं जाता, लेकिन इशारों से मतदान के लिए करती हैं लोगों को जागरूक

रेवाड़ी। (मोहिंद्र भारती) आपने शायद ही कहीं देश भक्ति का ऐसा जज्बा देखा हो, जहां एक तरफ पति ने सेना में रहकर देश की रक्षा की और पत्नी मतदान के लिए ग्रामीणों को जागरूक कर लोकतंत्र को मजबूत कर रही हो। रेवाड़ी जिला के बोहका में रहने वाली 107 साल की माया कौर कुछ ऐसा ही जज्बा लिए घूम रहीं है। नेहरू से लेकर मोदी तक के चुनावों की गवाह रही माया कौर अब तक 16 बार लोकसभा में अपना मतदान कर एक अच्छे नागरिक का फर्ज निभा चुकीं है। आज भी वो17वीं लोकसभ के लिए 12 मई को हरियाणा में होने वाले छठे चरण के मतदान को लेकर बहुत उत्सुक नज़र आ रही है।

107 years old lady
आज भी वो17वीं लोकसभ के लिए 12 मई को हरियाणा में होने वाले छठे चरण के मतदान को लेकर बहुत उत्सुक नज़र आ रही है।

माया का कहना है कि सभी को लोकतंत्र के इस महापर्व में अपना योगदान मत के जरिये जरूर करना चाहिए ताकि देश में अच्छी और सच्ची सरकार का चयन हो और देश मजबूती की राह पर अग्रसर हो सके। एक तरफ जहां सरकार लाखों रुपये खर्च कर लोगों से वोट डालने की अपील करती है, वहीं दूसरी ओर यह बूढ़ी अम्मा लोगों को वोट डालने के लिए जागरूक करती है। उम्र के ढलने के साथ अब माया कौर से बहुत कम बोला जाता है, लेकिन वह उंगली दिखा कर लोगों को वोट डालने का इशारा करती है।

Rewari
उमर के ढलने के साथ अब माया कौर से बहुत कम बोला जाता है, लेकिन वह उंगली दिखा कर लोगों को वोट डालने का इशारा करती है।

माया के पति केहर सिंह ने देश के लिए बॉर्डर पर तैनात रहकर देश की हिफाज़त की थी, तो वहीं माया कौर भी मतदान के लिए लोगों को जागरूक करती है। इसके साथ ही गांव के रहने वाले सभी लोग भी इस बूढ़ी अम्मा का आशीर्वाद लेकर उसे आश्वस्त भी कराते है कि वह भी देश भक्ति के उसी जज्बे के साथ वोट डालने जरूर जाऐंगे।

यह भी पढ़ें: दिव्यांग एथलीट कविता कुमारी का जोरदार स्वागत, स्वर्ण पदक जीतकर रोशन किया देश का नाम