कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के निर्यात पर प्रतिबंध

Injection Remdesivir Export Banned
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के निर्यात पर प्रतिबंध

नई दिल्ली। भारत में कोविड मामलों में हाल में काफी तेजी आई है। इसकी वजह से कोविड रोगियों के उपचार में प्रयुक्‍त इंजेक्‍शन मडेसिविर की मांग में अचानक बहुत तेजी आ गई है। आने वाले दिनों में इस मांग में और वृद्धि होने की संभावना है। भारत की सात कंपनियां अमेरिका की मेसर्स गिलीड साइंसेज के साथ स्‍वैच्छिक लाइसेंसिंग समझौते के तहत इंजेक्‍शन रेमडेसिविर का उत्‍पादन कर रही हैं। उनके पास हर महीने लगभग 38.80 लाख यूनिट की संस्‍थापित क्षमता है।

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के निर्यात पर प्रतिबंध

यह भी पढ़ें- भारत में अक्टूबर तक 5 और कोरोना वैक्सीन होंगी उपलब्ध

यह भी पढ़ें- हिमाचल आने पर दिखानी होगी RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के निर्यात पर प्रतिबंध

उपरोक्‍त को देखते हुए भारत सरकार ने स्थिति में सुधार आने तक इंजेक्‍शन रेमडेसिविर तथा रेमडेसिविर एक्टिव फार्मास्‍युटिकल इंग्रेडिएंट्स (एपीआई) के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके अतिरिक्‍त, भारत सरकार ने रोगियों एवं अस्‍पतालों को रेमडेसिविर की सरल सुविधा सुनिश्चित करने के लिए निम्‍नलिखित कदम उठाए हैं:-

दवा की सुविधा सुगम बनाने के लिए रेमडेसिविर के सभी घरेलू विनिर्माताओं को उनकी वेबसाइट पर उनके स्‍टॉकिस्‍ट/वितरकों के विवरणों को प्रदर्शित करने का सुझाव दिया गया है। ड्रग इंस्‍पेक्‍टरों तथा अन्‍य अधिकारियों को स्‍टॉक का सत्‍यापन करने तथा उनके कदाचारों की जांच करने तथा जमाखोरी और तहबाजारी रोकने के लिए अन्‍य कारगर कदम उठाने का भी निर्देश दिया गया है। राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य सचिव संबंधित राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों के ड्रग इंस्‍पेक्‍टरों के साथ इसकी समीक्षा करेंगे।

Injection Remdesivir Export Banned
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के निर्यात पर प्रतिबंध

फार्मास्‍युटिकल विभाग रेमडेसिविर के उत्‍पादन में बढ़ोतरी के लिए घरेलू विनिर्माताओं के संपर्क में बना हुआ है। भारत सरकार ने राज्‍यों को यह भी सुझाव दिया है कि वर्तमान ‘कोविड-19 के लिए राष्‍ट्रीय नैदानिक प्रबंधन प्रोटोकॉल’ जो साक्ष्‍य पर आधारित है, को विशेषज्ञों की समिति द्वारा कई परस्‍पर बैठकों के बाद विकसित किया गया है और यह कोविड-19 के रोगियों के उपचार के लिए मार्गदर्शक दस्‍तावेज है। प्रोटोकॉल में रेम्‍डेसिविर को एक इंवेस्टिगेशनल थेरेपी अर्थात विस्‍तृत दिशा-निर्देशों में उल्‍लेखित प्रति संकेतों पर गौर करने के अतिरिक्‍त, जहां सूचित और साझा निर्णय निर्माण अनिवार्य है, के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।