अपराध/हादसा

पानी के तेज बहाव में बहा चक्की खड्ड पर बना रेलवे पुल, अंग्रेजों ने 1928 में बनाया था ये ब्रिज

By Vinod Kumar -- August 20, 2022 1:04 pm -- Updated:August 20, 2022 1:35 pm

कांगड़ा:

हिमाचल प्रदेश भारी बारिश का कहर जारी है। कई दिनों से हिमाचल में भारी बारिश होने से नदी नाले उफान पर हैं। जगह जगह भूस्खलन होने से भारी नुकसान हुआ है। कांगड़ा में बारिश के कारण नूरपुर के पास चक्की खड्ड में पठानकोट-जोगेंद्रनगर रेल लाइन पर बना रेलवे पुल पानी के तेज बहाव में बह गया।

चक्की नदी में तेज बहाव ने पुराने हो चुके पुल के कमजोर पिलर्स को बहा दिया। पुल के बहने का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। गनीमत रही कि पुल टूटने के समय किसी भी प्रकार की आवाजाही नहीं हो रही थी।

Railway bridge on Chakki river in Himachal collapses; train service to Pathankot halted

पुल के बहने से पठानकोट-जोगिंद्रनगर के बीच नैरो गेज ट्रेन सेवा बंद हो जाएगी। इस पुल का निर्माण पठानकोट-जोगेंद्रनगर रेल पर 1928 में अंग्रेजों ने किया था। इस रेलवे ट्रैक पर रोजाना सात ट्रेनों का संचालन किया जाता है। आस पास के लोगों के लिए ये ट्रेन सेवा लाइफ लाइन की तरह है। पुल के बहने से रेल सेवा प्रभावित होने के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

बताया जा रहा है कि खड्ड में अवैध खनन के बाद से पुल कमजोर हो गया था। खनन के चलते पुल की नींव खोखली हो गई थी। इससे पहले पिछले महीने पुल के एक पिलर में दरारें आ गई थीं।

वहीं, हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कई जिलों में बाढ़ के हालात हैं। धर्मशाला-कांगड़ा एनएच पर स्कोह में भी मलबा गिरने से सड़क मार्ग तीन घंटे मार्ग बंद रहा। इसके साथ कई जगहों पर मकान, पशुशलाएं क्षतिग्रस्त होने से जान-माल का भारी नुकसान हुआ है।

 

  • Share