कोरोना वायरस: बहादुरगढ़ में अब तक 12 लोगों को किया गया होम क्वॉरेंटाइन

Coronavirus 11 People Under Quarantaine in Bahadurgah of Haryana

बहादुरगढ़। (प्रदीप धनखड़) झज्जर जिला प्रशासन कोरोनावायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए मुस्तैदी के साथ अपना काम कर रहा है। लेकिन यहां के आम लोग सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर बिल्कुल भी जागरूक नहीं है। बहादुरगढ़ की सब्जी मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए नगर परिषद के कर्मचारियों ने गोल दायरे भी लगाए हैं। लेकिन लोग सोशल डिस्टेंस इन बिल्कुल भी नहीं रख रहे हैं।

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए झज्जर जिले में 107 लोगों को होम क्वॉरेंटाइन किया गया है। जिनमें से 12 लोग बहादुरगढ़ के रहने वाले हैं। बहादुरगढ़ की नई बस्ती में रहने वाले एक युवक को भी होम क्वॉरेंटाइन किया गया है। यह सभी लोग विदेश यात्रा कर झज्जर और बहादुरगढ़ स्थित अपने घरों को लौटे हैं। झज्जर जिला प्रशासन के अधिकारी लगातार लोक डाउन को सफल बनाने के लिए पुरजोर कोशिशें कर रहे हैं। पुलिस ने लॉक डाउन उल्लंघन करने वाले 45 वाहन चालकों के चालान काटे हैं और तीन वाहनों को इंपाउंड भी किया है। इतना ही नहीं धारा 144 का उल्लंघन करने के मामले में अब तक 11 एफआईआर हो चुकी है और 11 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है। शहर और गांव के लगभग सभी मुख्य रास्तों पर पुलिस तैनात है। साथ ही झज्जर जिले से सटे राजधानी दिल्ली की सीमाओं के साथ-साथ अन्य जिलों की सीमाओं को भी सील किया गया है।

Coronavirus 11 People Under Quarantaine in Bahadurgah of Haryanaस्वास्थ्य विभाग लगातार होम क्वॉरेंटाइन किए गए लोगों की जांच कर रहा है। साथ ही अन्य समस्याओं से भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दो चार होना पड़ रहा है। होम क्वॉरेंटाइन किए गए लोगों में से 3 परिवारों ने अपने घर के सामने लगे पोस्टरों को उखाड़ दिया। जिन पर इस घर में आने जाने पर रोक लगाने के निर्देश अंकित किए गए थे। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें चेतावनी देकर दोबारा से उनके घरों के बाहर पोस्टर लगाए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने मलेरिया के उपचार के दौरान प्रयोग में लाई जाने वाली 2 दवाओं को बैन करने का भी फैसला किया है। दरअसल इन दो दवाइयों का उपयोग मलेरिया के उपचार के दौरान किया जाता है। लेकिन सोशल मीडिया पर इन दवाइयों का प्रयोग कोरोनावायरस के इलाज के लिए करने की बात कही गई थी। इस पर संज्ञान लेते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दवाई विक्रेताओं को बिना डॉक्टर की प्रिसक्रिप्शन के किसी भी आदमी को यह दवाई देने पर बैन लगा दिया है।

एक तरफ जहां जिला राज्य और केंद्र स्तर पर कोरोनावायरस के फैलने से बचने के लिए तमाम बंदोबस्त किए जा रहे हैं। लेकिन झज्जर जिले की आम जनता सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर बिल्कुल भी जागरूक नहीं है। सुबह के समय बहादुरगढ़ की सब्जी मंडी के सामने कुछ ऐसा ही देखने को मिला। यहां सड़क पर गाड़ियों की लंबी लाइनें देखने को मिली। साथ ही काफी भीड़ इकट्ठी हुई दिखाई दी। यहां पर राशन की दुकानों के सामने नगर परिषद के कर्मचारियों ने गोल दायरे भी लगाए हैं। ताकि लोग एक दूसरे से 1 मीटर की दूरी रखकर सामान खरीद सकें। लेकिन लोग एक दूसरे से दूर रहना मुनासिब नहीं समझ रहे। ऐसे में लोगों को स्वयं कोरोनावायरस से बचाव के लिए घरों में रहने की आवश्यकता है। क्योंकि इस वायरस से बचाव का एकमात्र उपाय ही खुद को दूसरों के संपर्क में आने से रोकना है। घर में अपने परिवार के साथ रहकर ही इस वायरस को फैलने से रोका जा सकता।

—PTC NEWS—