भारत में दैनिक स्तर पर कोविड जांच की संख्या दुनिया में सबसे अधिक

By Arvind Kumar - September 03, 2020 2:09 pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के साथ ही देश में कोरोना टेस्टिंग भी तेजी से बढ़ रही है। भारत में दैनिक स्तर पर कोविड जांच की संख्या दुनिया में सबसे अधिक है। पिछले दो दिनों से प्रति दिन 10 लाख से अधिक कोविड जांच के साथ देश में दैनिक दैनिक स्तर पर कोविड-19 मामलों की जांच में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गई है।

पिछले 24 घंटों में 11.7 लाख (11,72,179) से अधिक जांच की गई। इस उपलब्धि के साथ, अबतक की गई कुल जांच की संख्या 4.5 करोड़ (4,55,09,380) से अधिक हो चुकी है। यह देश में दैनिक कोविड जांच में तेज वृद्धि को दर्शाता है। इससे पहले 30 जनवरी तक प्रति दिन जहां केवल 10 जांच हो पाती थी वहीं  इसका दैनिक औसत आज 11 लाख से अधिक हो चुका है।

India’s daily testing numbers are highest in the world

व्यापक स्तर पर काफी लंबे समय तक निरंतर की जाने वाली ऐसी जांच रोग के प्रारंभिक निदान को सक्षम बनाती है और इसके आधार पर रोगियों को अलग रखने और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की निर्बाध सुविधा प्रदान करती है। इससे अंततः मृत्यु दर में कमी आती है। जांच की संख्या में तेजी से कोविड पॉजिटिव मामलों में भी कमी आती है।

जांच की संख्या में वृद्धि देश भर में नैदानिक प्रयोगशालाओं के नेटवर्क में तेज विस्तार से संभव हो पाई है। पूरे देश में इस समय 1623 प्रयोगशालाएं हैं। सरकारी क्षेत्र में 1022 और निजी क्षेत्र में 601 प्रयोगशालाएं हैं। इसमें निम्नलिखित प्रकार की प्रयोगशालाएं शामिल  है:

  • वास्तविक समय आरटी पीसीआर आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं:823 (सरकारी: 465 + निजी: 358)
  • ट्रूनेट आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं:678 (सरकारी:523 + निजी: 155)
  • सीबीएनएएटी आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं:122 (सरकारी:34 + निजी: 88)

India’s daily testing numbers are highest in the world

इसके अतिरिक्त जांच की उन्नत तकनीक के लिए कोबास 6800/8800 सहित अत्याधुनिक उच्च थ्रूपुट मशीनें पांच स्थानों पर लगाई गई हैं जिनमें पटना का आईसीएमआर-राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, कोलकाता का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कॉलरा एंड एंटरिक डिजीज, दिल्ली का राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र,मुंबई का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्टिव हेल्थऔर नोएडा का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च शामिल है। ये मशीनें न्यूनतम मानव हस्तक्षेप के साथ प्रति दिन लगभग 1000 कोविड नमूनों की जांच करने में सक्षम हैं।

आरटी-पीसीआर के साथ जांच क्षमता को धीरे-धीरे बढ़ाया गया है। पहले चरण में बड़े शहरों / शहरी क्षेत्रों को कवर करते हुए आरटी पीसीआर जांच प्रक्रिया को स्वर्ण मानक के रूप में इस्तेमाल किया गया है। इसके बाद दूसरे चरण में जिला स्तर पर मांग के अनुरुप निर्धारित अवधि मे जांच के लिए  आणविक नैदानिक जांच प्रक्रिया का इस्तेमाल हो रहा है। तीसरे चरण में कंटेनमेंट जोन और ऐसे अस्पतालों में जहां आणविक नैदानिक जांच की सुविधा उपलब्ध नहीं है, एंटीजन जांच प्रकिया अपनाने की सिफारिश की जाती है।

---PTC NEWS---

adv-img
adv-img