हरियाणा

पिता की बीमारी के चलते चाय बेच रहा था 12 साल का मासूम, पीटीसी न्यूज संवाददाता की खबर का हुआ असर

By Vinod Kumar -- September 09, 2022 12:36 pm -- Updated:September 09, 2022 1:36 pm

लखनऊ/ज्ञानेंद्र शुक्ला: 12 साल की उम्र में एक मासूम घर की खराब आर्थिक हालत के चलते चाय और पकोड़े बेचने को मजबूर हो गया था। पीटीसी न्यूज ने इस खबर को प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद यूपी के डिप्टी सीएम केशल प्रसाद मौर्य ने संज्ञान लिया। उन्होंने पीटीसी न्यूज के संवाददाता ज्ञानेंद्र शुक्ला को ट्विटर पर हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के फतेहपुर बेला गांव में रहने वाला 40 वर्षीय राम नरेश कुशवाहा पेशे से कैटरिंग का कारीगर है। परिवार में पत्नी पुष्पा देवी के साथ तीन बेटियां एक बेटा है।कोरोना काल के दौरान राम नरेश को टायफाइड बुखार हुआ। जिसके इलाज को परिवार ने उसे निजी अस्पताल मंझनपुर में भर्ती कराया। जहां हुए गलत इलाज के चलते राम नरेश को किडनी का गंभीर रोग हो गया। मंहगे अस्पताल और दवाओं के खर्च से परिवार के पास की जमा पूंजी के साथ उनका लाखों रुपये का उपजाऊ खेत, दो घर एवं 16 कीमती फलदार पेड़ बिक गए।

बावजूद इसके राम नरेश की हालत दिन ब दिन ख़राब होती चली गई। परिवार के पास अब इलाज के लिए रुपये नहीं है। राम नरेश के इलाज व परिवार के लिए दो जून की रोटी कमाने के लिए 12 साल के बेटे सचिन को एक छोटी सी चाय की दुकान खोलनी पड़ी। इस परिवार के सामने राम नरेश के इलाज का संकट खड़ा है। पिता को तिल-तिल कर मरता देख सचिन खेलने खाने की उम्र में काम करने को मजबूर हो गया।

अपने पिता का जीवन बचाने और घर का खर्च चलाने के लिए सचिन ने यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य से अपील की थी, इस मामले को पीटीसी न्यूज यूपी ने भी प्रमुखता से उठाया। हमारी मानवीय अपील का संज्ञान लेते हुए डिप्टी सीएम ने संबंधित अफसरों को इस परिवार की मदद के लिए निर्देशित किया और भरोसा दिया है कि इस परिवार की हर संभव मदद करेंगे।

डिप्टी सीएम के संज्ञान से पीटीसी न्यूज यूपी की मुहिम रंग लाई है और सचिन की पढ़ाई बहाल हो सकेगी साथ ही इसके परिवार की मुक्कमल मदद हो सकेगी।

  • Share