बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह पर शिकंजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉ. गिरफ्तार

Insurance Claim
बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह पर शिकंजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉ. गिरफ्तार

हिसार। (संदीप सैणी) कैंसर जैसी बीमारियों से ग्रस्त लोगों की हादसे में मौत दिखाकर लाखों के बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह के सदस्यों की गिरफ्तारी शुरू हो गई है। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाले हांसी सिविल अस्पताल के डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। आरोपी को कोर्ट में पेश कर उसे पुलिस रिमांड पर लिया गया है।

Insurance Claim
बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह पर शिकंजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉ. गिरफ्तार

जिला पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने मामले में जांच तेज कर दी है। अब मृतकों के परिजन भी पुलिस के रडार पर हैं। जानकारी के मुताबिक जिन व्यक्तियों का बीमा किया जाता था उनके परिजनों को विश्वास में लिया जाता था। परिवार के सदस्यों को भी बीमे की राशि में से हिस्सा दिया जाता था। गिरोह का सरगना हिसार का वकील बताया जा रहा है।

Insurance Claim
बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह पर शिकंजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉ. गिरफ्तार

गौरतलब है कि बीमा कंपनियों से धोखाधड़ी करते हुए लाइलाज बीमारियों से पीड़ित व्यक्तियों का बीमा करने के बाद उनकी हादसों में मौत दिखाने वाले प्रदेश के बड़े गिरोह के खिलाफ हांसी पुलिस ने पिछले दिनों मामला दर्ज किया था। अब इस मामले में हांसी सिविल अस्पताल के मेडिकल ऑफिसर डॉ विजय स्वरूप मलिक का नाम सामने आया है।

यह भी पढ़ें- घर में दबे खजाने को निकालने के नाम पर तांत्रिकों ने की 24 लाख की ठगी

यह भी पढ़ें- छात्रा पर अश्लील फब्तियां कसने वाले मनचले को पुलिस ने कुछ ऐसे सिखाया सबक
आरोप है कि डॉ विजय द्वारा ही सिविल अस्पताल हांसी में तीन ऐसे व्यक्तियों के पोस्टमार्टम किए गए और मौत का कारण हादसा दिखाया गया, जबकि वास्तव में उनकी मौत बीमारी के कारण हुई थी। ये गिरोह लंबे समय से सक्रिय था और कई नामी बीमा कंपनियों को फर्जी क्लेम लेकर करोड़ों का चूना लगा चुका है। पुलिस ने पहली गिरफ्तारी डॉ विजय स्वरूप मलिक की करते हुए अपने तेवर स्पष्ट कर दिए हैं। इस मामले में हिसार का एक एडवोकेट भी आरोपी है जिसकी गिरफ्तारी लंबित है।

Insurance Claim
बीमा क्लेम हड़पने वाले गिरोह पर शिकंजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉ. गिरफ्तार

पुलिस ने जांच तेज कर दी है व इस मामले में जल्द ही अन्य गिरफ्तारियां होने की पूरी संभावना है। जिला पुलिस ऐसे करीब तीन मामलों में जांच कर रही है जिनमें धोखाधड़ी से बीमा क्लेम हड़पे गए हैं।