हरियाणा

हथिनी कुंड से पानी छोड़े जाने के कारण दिल्ली में बाढ़ का खतरा, LG ने भी किया अलर्ट

By Vinod Kumar -- August 12, 2022 5:41 pm -- Updated:August 12, 2022 5:53 pm

पहाड़ों पर हो रही लगातार बारिश के बाद मैदानी इलाकों में नदी नाले उफान पर हैं। बारिश के चलते यमुना नदी का जलस्तर खतरे के निशान पर पहुंच गया है। नदी का जलस्तर आज 205.38 मीटर पर पहुंच गया। इसके बाद दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ये जानकारी दी है।

एलजी ने अपने ट्वीट में कहा कि यमुना के जल ग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के कारण, हथिनी कुंड से छोड़ा गया पानी आज शाम दिल्ली पहुंचने की संभावना है।नदी खतरे के निशान के ऊपर जा सकती है। प्रशासन सुरक्षा की दृष्टि से जरुरी कदम उठा रहा है।मेरी दिल्लीवासियों से अपील है कि यमुना में प्रवेश ना करें और सावधानी बरतें।


अनुमान है कि शनिवार सुबह यमुना नदी का जलस्तर 205.33 मीटर से अधिक पहुंच सकता है। ये मात्रा खतरे के निशान से अधिक है। ऐसे में दिल्ली सरकार की ओर से यमुना नदी के किनारे बसे इलाकों को खाली करने का निर्देश दे दिया गया है, ताकि जान-माल की सुरक्षा की जा सके।

भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक बुधवार को उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी से बहुत भारी बारिश हुई। इससे नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। प्रशासन स्थिति पर कड़ी नज़र रखे हुए है। पहाड़ों पर और अधिक बारिश होने की संभावना है।

HathniKundBarrage (1)

बाढ़ नियंत्रण कक्ष ने गुरुवार को शाम तीन बजे हरियाणा के यमुनानगर जिले के हथिनीकुंड बैराज से करीब 2.21 लाख क्यूसेक और आधी रात 12 बजे करीब 1.55 लाख क्यूसेक पानी छोड़ने की सूचना दी है। हाथिनी बैराज से छोड़े गए पानी को दिल्ली पहुंचने में 72 घंटे का समय लगता है।

 

  • Share