कृषि मंत्री बोले- अवैध तरीके से फसल बेचने वालों पर सरकार की पूरी नजर

रेवाड़ी। हरियाणा के कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल और कोसली के विधायक लक्ष्मण सिंह यादव ने शनिवार को कोसली स्थित अनाज मंडी में चल रही बाजरा खरीद का निरीक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए।
बाजरा खरीद का जायजा लेने उपरांत कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि प्रदेश के किसानों की बाजरा उपज का दाना-दाना सरकार खरीदेगी और किसानों की आमदनी में बढ़ोतरी करवाना सरकार का मुख्य उद्देश्य है। किसानों और आढ़तियों के हितों पर किसी प्रकार की आंच नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि किसानों की फसल को पूरी पारदर्शिता के साथ सरकार खरीदेगी। हरियाणा की मनोहर सरकार पूरी तरह से किसानों के साथ है।

educareकृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेशभर की मंडियों में हरियाणा के किसान की बाजरा सहित अन्य खरीफ फसलों की उपज बिक्री के लिए सभी सुविधाएं मुहैया करवाई गई हैं, ताकि फसल बिक्री के दौरान किसानों की असुविधा ना होने पाए। उन्होंने दोहराया कि हरियाणा के किसान का बाजरे का एक-एक दाना खरीदा जाएगा ,जबकि बाहर से आने वाले बाजरे की खरीद नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से चालू किए गए मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर किसानों द्वारा किए गए पंजीकरण, पटवारियों द्वारा की गई ई-गिरदावरी तथा हरसेक से हुई स्टेलाईट गिरादवरी की रिपोर्ट के तहत पंजीकरण की वेरिफिकेशन कराई गई है।

यह भी पढ़ेंट्रंप कोरोना पॉजिटिव हुए तो चीनी मीडिया ने कही ये बात

यह भी पढ़ेंअटल टनल देश को समर्पित, पीएम मोदी ने किया उद्घाटन

कृषि मंत्री ने स्पष्ट किया कि अवैध तरीके से फसल बेचने वालों पर सरकार और प्रशासन की पूरी नजर है, इसके लिए बाकायदा अधिकारियों की डयूटियां लगाई गई हैं, यदि कोई व्यक्ति किसी भी रूप से निर्धारित मापदंडों से हटकर बाजरा बिक्री की कोशिश करता है, तो जांच के आधार पर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

Government has complete eye on those who sell crops illegallyइस अवसर पर कोसली के विधायक लक्ष्मण सिंह यादव ने कहा कि कोसली क्षेत्र के किसानों के बाजरे का एक एक दाना खरीद किया जाएगा और यहां के किसानों को किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कोसली क्षेत्र में बाजरा खरीद के लिए अस्थाई बिक्री केंद्र स्थापित करने की प्रक्रिया चल रही है,उनका प्रयास है कि सरसों की तर्ज पर किसानों के घरों के आसपास ही बाजरा की खरीद हो सके,ताकि किसानों के समय की बचत हो पाए।