हरियाणा पुलिस प्रत्येक जिले में स्थापित करेगी साइबर रिस्पांस सेंटर

Haryana Police to create Cyber Response Centres to curb technology-related cases

चंडीगढ़। साइबर अपराध को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल की गंभीरता को बल देने की एक और पहल करते हुए, हरियाणा पुलिस ने राज्य में साइबर क्राइम के मामलों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए प्रत्येक जिले में साइबर रिस्पांस सेंटर स्थापित करने का निर्णय लिया है। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), हरियाणा, मनोज यादव ने आज यहां इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ये सेंटर डिजिटलीकरण और तेजी से आधुनिकीकरण के कारण उभरती चुनौतियों के बढ़ते खतरों को ध्यान में रखते हुए मौजूदा साइबर सेल को उन्नत कर बनाए जाएंगे। बैंक धोखाधड़ी, भुगतान गेटवे का मिसयूज, फेसबुक, ट्विटर आदि सहित साइबर संबंधी सभी शिकायतों का इन केंद्रों के माध्यम से निपटान किया जाएगा।डीजीपी ने कहा कि कोरोनोवायरस के प्रसार के कारण साइबर अपराध में तेजी देखी गई है क्योंकि ऐसे जालसाज लोगों को ठगने के लिए वर्तमान में उत्पन्न स्थिति और अनिश्चितता का इस्तेमाल कर रहे हैं। ये सेंटर विशेष साइबर कर्मियों की तैनाती के साथ बनाए और मजबूत किए जाएंगे। हाल ही में भर्ती हुए टेक-सेवी उप-निरीक्षकों और कांस्टेबलों की सेवाओं का उपयोग इस उद्देश्य के लिए किया जाएगा। पुलिस साइबर अपराध व उससे जुड़ी सावधानियों के बारे में लोगों को शिक्षित व जागरूक करने के लिए आरडब्ल्यूए, कॉलेजों, स्कूलों, कॉलोनियों आदि का दौरा करेगी। इसके अतिरिक्त, साइबर सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम भी शुरू किया जाएगा ताकि बच्चों को साइबर बुलिंग, साइबर स्टाॅकिंग आदि से बचाया जा सके।

Haryana Police to create Cyber Response Centres to curb technology-related cases

साइबर क्राइम पर अंकुश को नेटवर्क होगा उन्नत व मजबूत

डीजीपी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा हाल ही में रोहतक, हिसार, करनाल, अंबाला, रेवाड़ी और फरीदाबाद में एक-एक नया साइबर क्राइम थाने की मंजूरी के साथ हरियाणा पुलिस जल्द ही अपने साइबर अपराध के नेटवर्क को उन्नत व मजबूत करेगी। ये पंचकूला और गुरुग्राम में वर्तमान में मौजूद दो साइबर पुलिस थानों के अतिरिक्त होंगे। अधिक साइबर पुलिस स्टेशनों की स्थापना से हमें साइबर जालसाजों को रोकने व अपराधियों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करने में मदद मिलेगी।

मशहूर हस्तियों के फर्जी प्रोफाइल से रहें सावधान

डीजीपी ने यह भी बताया कि साइबर अपराध का एक नया चलन सामने आया है जिसमें जालसाज लोगों को ठगने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर राजनेताओं के साथ-साथ प्रमुख हस्तियों के फर्जी प्रोफाइल को हैक करने या बनाने की कोशिश कर सकते हैं। हमें ऐसे धोखेबाजों से अधिक सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है। कई ऑनलाइन स्कैमर्स लोगों से पैसे ऐंठने के लिए मशहूर हस्तियों के फर्जी अकांउटस का उपयोग कर रहे हैं। नागरिकों को ऐसे जालसाजों से सतर्क रहते हुए विभिन्न सोशल मीडिया अकांउटस पर पोस्ट की गई जानकारी पर आँख बंद कर भरोसा नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जागरूकता व सतर्कता यूजरस को किसी भी स्कैम का शिकार होने से बचा सकती है।

—PTC NEWS—