वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने पर जोर दे रही सरकार, कोवैक्सिन का फॉर्मूला दूसरी कंपनियों को देने की तैयारी

By Arvind Kumar - May 16, 2021 10:05 am

नई दिल्ली। देश में जल्द ही कोरोना वैक्सीन की किल्लत दूर होगी। नीति आयोग की स्वास्थ्य समिति के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने बताया कि टीकाकरण कोविड के विरुद्ध प्रभावी हथियार है। महामारी के इस दौर में टीका ही जीवन रक्षक है। इसी कड़ी में भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चल रहा है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में 26 मई तक बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू

यह भी पढ़ें: कोरोना से मौत पर मृतक के परिजनों को मिलेगा मुआवजा

Bharat Biotech refused vaccine supply, mismanagement by Centre, says Manish Sisodia
उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार और भारत बायोटेक कंपनी कोवैक्सिन का उत्पादन बढ़ाने पर जोर दे रही है। इसी कड़ी में कोवैक्सिन का फॉर्म्यूला वैक्सीन बनाने वाली दूसरी कंपनियों के साथ साझा करने की सहमित बनी हैं। उल्लेखनीय है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी वैक्सीन का फॉर्मूला दूसरी कंपनियों के साथ शेयर करने की मांग की थी ताकि वैक्सीन की ज्यादा डोज तैयार की जा सके।
corona
इस बीच केंद्र सरकार ने बताया कि वैक्सीन के उत्पादन के लिए निर्माताओं को हरसंभव सहायता दी जा रही है। टीके का निर्माण करने वाली कंपनियों को वित्तीय अनुदान दिया जा रहा है। उचित तकनीक और सभी जरूरी संसाधन मुहैया कराया जा रहे हैं।

Italian woman, mistakenly, given 6 shots of Pfizer Covid-19 vaccineकोवैक्सिन के उत्पादन के लिए दिए गए अनुदान के बाद, यह अनुमानित हैं कि सितंबर 2021 तक प्रतिमाह 10 करोड़ से अधिक टीके की खुराक का उत्पादन किया जा सकेगा। केंद्र सरकार के द्वारा भारत बायोटेक की न्यू बैंगलोर स्थित इकाई को 65 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया है। इस संस्थान को टीके की उत्पादन क्षमता में वृद्धि के लिए, नए सिरे से तैयार किया गया था। इसी तरह जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा देश के अलग-अलग वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को सहायता दी जा रही है।

adv-img
adv-img