अजय चौटाला बोले- छात्र हितों के साथ-साथ इनसो ने सामाजिक सरोकार बखूबी निभाए

'INSO works not only for student rights but also towards social welfare'

चंडीगढ़। पिछले 17 सालों में छात्र संगठन इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन (INSO) ने न केवल छात्रों की आवाज को बुलंद किया बल्कि सामाजिक सरोकारों की कसौटी पर भी खरी उतरी है। यह बात इनसो संस्थापक डॉ. अजय सिंह चौटाला ने कही। वे बुधवार को इनसो के 18वें स्थापना दिवस पर आयोजित एक ऑनलाइन रैली को संबोधित करते हुए युवाओं को अपना संदेश दे रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने चंडीगढ़ स्थित इनसो केंद्रीय कार्यालय पर इनसो का झंडा स्थापित किया। इस अवसर पर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, जेजेपी प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह, राज्य मंत्री अनूप धानक, इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला, जेजेपी प्रदेश कार्यालय सचिव रणधीर सिंह, इनसो कार्यालय सचिव मोंटू दलाल आदि मौजूद रहे।
इनसो संस्थापक डॉ. अजय सिंह चौटाला ने कहा कि आज से 17 वर्ष पूर्व हमने इनसो की स्थापना छात्रों की आवाज बनाकर उनका हक दिलाने के लिए की थी। उन्होंने कहा कि अन्य सियासी दल अपने स्वार्थ की खातिर छात्रों की बात करते हैं और अपना मतलब निकलने के बाद छात्रों को कहते हैं कि आपका काम सिर्फ पढ़ाई करने का है, राजनीति करने का नहीं। डॉ. चौटाला ने कहा कि आज के युग में युवाओं के लिए शिक्षा के साथ-साथ राजनीति में आगे बढ़ना और अपने सामाजिक दायित्व को निभाना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि इनसो ऐसा छात्र संगठन है जिसने 18 वर्षों में छात्र हितों के साथ-साथ समाजिक सरोकार को बखूबी निभाते हुए बुलंदियों को छुआ।

'INSO works not only for student rights but also towards social welfare'

डॉ. अजय सिंह चौटाला ने कहा कि इनसो ने सामाजिक दायित्व की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए रोहतक में दिसंबर 2013 में सर्वाधिक 10 हजार 883 लोगों को नेत्रदान करवाकर इनसो का नाम गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज करवाया।

डॉ. चौटाला ने इनसो को बधाई देते हुए कहा कि इस बार कोरोना महामारी के समय में खून की जरूरत को देखते हुए प्रदेशभर में रक्तदान शिविर आयोजित कर करीब पांच हजार यूनिट रक्तदान किया और सभी जिलों में पर्यावरण संतुलन के लिए 15 हजार से अधिक पौधे लगाए। उन्होंने कहा कि इनसो ने शुरू से छात्र संघ चुनाव का मुद्दा व जन सेवा से जुड़े गरीब कन्याओं की शादी, स्वच्छता अभियान समेत तमाम कार्य किये हैं और आगे भी ऐसे सामाजिक सरोकार के कार्यों को करते हुए छात्रों के हित के लिए और ज्यादा मजबूती के साथ संघर्ष करती रहेगी।

'INSO works not only for student rights but also towards social welfare'

इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने करोनो काल में ग्रामीण आंचल के विद्यार्थियों को ऑनलाइन अध्ययन की सुविधा जुटाने के लिए स्वयं का एक महीने का वेतन देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में मोबाइल नेटवर्क की समस्या नहीं है लेकिन इन्हें मजबूत करने की जरूरत है। उन्होंने अभिभावकों से आह्वान किया कि अपने घर में व्यर्थ पड़े स्मार्ट फोन को वो किसी जरूरतमंद छात्र-छात्राओं को दें ताकि उन्हें ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण करने में मदद मिल सके। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी-जेजेपी की गठबंधन सरकार नई शिक्षा नीति-2020 के द्वारा शिक्षा के स्तर को नये मुकाम पर लेकर जाएगी।

दुष्यंत चौटाला ने सोनीपत के प्रदीप सिंह को सिविल सेवा परीक्षा में देशभर में टॉप करने पर बधाई दी और कहा कि यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश के छात्र-छात्राएं शिक्षा के क्षेत्र में आगे है। डिप्टी सीएम ने इनसो का अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि वर्ष 2006 में उन्हें इनसो में कार्य करने का अवसर मिला, उस दौरान स्कूलों में सुविधाओं, किताबें वितरण करने के काम के साथ-साथ कॉलेज-विश्वविद्यालयों के छात्रों के हर विषयों को लेकर आवाज बुलंद की।

इनसो के 18वें स्थापना दिवस के अवसर पर इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि इनसो डॉ. अजय सिंह चौटाला का लगाया हुआ पौधा होने के साथ-साथ समाजिक सरोकार से जुड़ा हुआ ऐसा मील का पत्थर है जो छात्रों के हक तथा जन सेवा को लेकर हमेशा आगे रहता है। उन्होंने कहा कि जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियों तथा डॉ. अजय सिंह चौटाला की प्रेरणा से बनाए गए संगठन इनसो आज उनके रास्ते पर चलते हुए नई मिसाल कायम कर रहा है।

—PTC NEWS—