हरियाणा

टोल फ्री होने से हाईवे अथॉरिटी को करोड़ों का नुकसान, वाहन चालकों की चांदी

By Arvind Kumar -- December 29, 2020 3:12 pm -- Updated:Feb 15, 2021

रोहतक। कृषि आन्दोलन का असर अब टोल प्लाजाओं पर भी पड़ने लगा है। किसानों ने अनिश्चितकाल के लिए हरियाणा के सभी टोल फ्री करवाएं हुए हैं। जिस वजह से आए दिन हाईवे अथॉरिटी को एक करोड़ रुपए तक का नुकसान हो रहा है। कंपनी मैनेजर के अनुसार एक सप्ताह में लगभग 7 करोड़ रुपए का नुकसान होगा।

Toll Free in Haryana टोल फ्री होने से हाईवे अथॉरिटी को करोड़ों का नुकसान, वाहन चालकों की चांदी

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ( एनएचएआई ) के रोहतक कार्यालय के मैनेजर से बताया कि 25 दिसंबर के बाद टोल नहीं वसूला जा रहा। रोहतक से सटे जिलों को मिलाकर कुल 7 टोल पड़ते हैं। यदि पुराने आंकड़ों का जिक्र करें तो पिछले एक सप्ताह में रोहतक-हिसार हाईवे के मदीना टोल से लगभग 64 हजार वाहन गुजरे और 54 लाख रुपए वसूल किए गए।

यह भी पढ़ें- 30 दिसंबर को होगी किसानों और सरकार की बातचीत, क्या खत्म होगा आंदोलन?

Toll Free in Haryana टोल फ्री होने से हाईवे अथॉरिटी को करोड़ों का नुकसान, वाहन चालकों की चांदी

साथ ही रमायना टोल से लगभग 1 लाख वाहन गुजरे और तकरीबन 1 करोड़ रुपए वसूल किए गए। रोहतक-दिल्ली के रोहद टोल से 87 हजार वाहन गुजरे और 76 लाख रुपए वसूले। उसके बाद रोहतक-पानीपत के मकड़ोली टोल से 50 हजार वाहन गुजरे और 1 करोड़ 25 लाख रुपए वसूले गए साथ ही ढहार टोल से 74 हजार और 1 करोड़ 25 लाख रुपए वाहनों से लिए गए।

यह भी पढ़ें- किसान आंदोलन को लेकर ओपी चौटाला की पीएम मोदी को चिट्ठी, लिखी ये बात

Toll Free in Haryana टोल फ्री होने से हाईवे अथॉरिटी को करोड़ों का नुकसान, वाहन चालकों की चांदी

रोहतक झज्जर हाईवे के डीघल टोल से 91 हजार वाहन गुजरे और 8 लाख रुपए वसूल किए गए। साथ ही गंगाईचा जाट से 48 हजार वाहन गुजरे और 77 लाख रुपए वसूल किए गए। एक सप्ताह के आंकड़ों से अंदाजा लगाया जा सकता है की टोल फ्री होने के बाद कितना नुकसान होगा। टोल प्लाजा मुफ्त होने के कारण वाहन चालकों की चांदी हो रही है। टोल कंपनी चाहकर भी कुछ नहीं कर पा रही।

  • Share