पंचायत प्रधान गरीबों और प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए आगे आएंः मुख्यमंत्री

By Arvind Kumar - May 17, 2020 12:05 pm

शिमला। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से सोलन और सिरमौर जिलों के विभिन्न ग्राम पंचायतों के प्रधानों से बातचीत करते हुए कहा कि वे कोविड-19 के दृष्टिगत अपने संबंधित क्षेत्रों में लोगों को जागरूक करने के लिए प्रदेश सरकार को पूर्ण सहयोग प्रदान करें। उन्होंने कहा कि सभी प्रतिनिधि यह भी सुनिश्चित करें कि देश के विभिन्न भागों से वापिस आए हुए लोग होम क्वारंटीन के नियमों का उलंघन न करें।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रधान लोकतंत्रीय व्यवस्था के धरातल पर स्थित संस्थानों के मुखिया के तौर पर, लोकतांत्रिक व्यवस्था का सबमें महत्वपूर्ण अंग हैं। उन्होंने कहा कि अपने क्षेत्र के विकास और सामाजिक मुद्दों में उनकी सक्रिय भूमिका बहुत महत्वपूर्ण रहती है। प्रधानों को गरीब और प्रवासी मजदूरों को भोजन और आश्रय प्रदान करने के लिए आगे आना चाहिए। पंचायतों को लोगों को फेस कवर और मास्क प्रदान करना भी सुनिश्चित करना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में देश के विभिन्न भागों से लगभग 1.15 लाख लोग वापिस आ गए हैं और प्रदेश में वापिस आने के लिए 60 हजार और लोगों ने पंजीकरण करवाया है। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न भागों से भारी संख्या में लोगों के वापस आने के कारण कोविड-19 मरीजों की संख्या में भी बढ़ौतरी हुई है। उन्होंने कहा कि एक मई को केवल एक सक्रिय मरीज था, जो बढ़ कर 34 हो गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इस वायरस से उत्पन्न स्थिति से लड़ने के लिए पूर्ण रूप से तैयार हैं और किसी प्रकार डरने की आवश्यकता नहीं है। प्रदेश के लोगों के सहयोग से शीघ्र ही हिमाचल प्रदेश देश का कोरोनामुक्त प्रदेश बन जाएगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि इस स्थिति से निपटने के लिए सभी के संयुक्त प्रयासों का होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पंचायत प्रधान लोगों को होम क्वारंटीन के महत्व के बारे जागरूक करें। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति होम क्वारंटीन के नियमों की अवहेलना न करें और यदि कोई व्यक्ति क्वांरटीन के नियमों का पालन नहीं करता है तो ऐसा मामला जिला प्रशासन के ध्यान में लाया जाए ताकि उस व्यक्ति को संस्थागत क्वांरनटीन में भेजा जा सके।

---PTC NEWS---

adv-img
adv-img