हरियाणा

हरियाणा की जेलों में कैदी करेंगे जैविक खेती, बंदियों के खाने के समय भी होगा बदलाव

By Vinod Kumar -- August 30, 2022 2:59 pm

हरियाणा की जेलों में कैदियों को दिए जाने वाले रात्रि भोजन के समय में बदलाव किया गया है। जेल मंत्री रणजीत सिंह चौटाला ने कहा कि पहले सूर्यास्त के समय बन्दियों को खाना दिया जाता था जो वर्ष 1947 से चला आ रहा था, क्योंकि उस समय जेलों में बिजली की व्यवस्था नहीं थी, लेकिन अब आधुनिक जेलों की अवधारणा आ चुकी है।

अब रात्रि भोजन का समय ग्रीष्म ऋतु में सात से आठ और सर्दियों में यह समय सांय छ: से सात बजे का होगा। रणजीत चौटाला ने कहा कि अब कैदियों से भिवानी, नारनौल व हिसार जेलों में सालासर बाबा जी को चढ़ाये जाने वाले सवामणी प्रसाद को बना कर तैयार करवाया जाएगा। इसी प्रकार जैविक खेती भी जेलों में करवाई जाएगी।

जेल मंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र जेल की भूमि पर आरम्भ किया गया पेट्रोल पंप पर 12 लाख रुपये का तेल बिक्री प्रतिदिन हो रहा है। अम्बाला, हिसार जेल जो शहर के अन्दर आ गई हैं उन्हें भी बाहर शिफ्ट किया जाएगा। फतेहाबाद व चरखी दादरी में नई जेलों का निर्माण किया जा रहा है।

चौधरी रणजीत सिंह ने कहा कि पिछले लगभग तीन वर्षों में जेल स्तर को सुधारने के लिए अनूठी पहल की गई है। विगत दिनों जेल अधीक्षकों व उप-अधीक्षकों की एक कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें जेल महानिदेशक, पूर्व डीजीपी केपी सिंह, तिहाड़ जेल के डीजीपी को भी बुलाया गया था। बैठक में इस बात पर भी सहमति हुई थी कि जेल अधीक्षकों व उप-अधीक्षकों को स्कॉर्पियो गाड़ी दी जाएगी।

  • Share