राजनीति

UP Assembly Elections: यूपी में 'खेला होबे'! बीजेपी विधायकों के पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी

By Vinod Kumar -- January 13, 2022 2:17 pm -- Updated:January 13, 2022 3:09 pm

UP assembly elections 2020: UP विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) के लिए अब कुछ ही समय बचा है। चुनाव से ठीक पहले यूपी में बीजेपी (Bharatiya Janata Party) नेताओं के इस्तीफे की झड़ी लग गई। पार्टी छोड़कर जा रहे नेताओं के कारण बीजेपी की परेशानी बढ़ती दिख रही है।

स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने के बाद अब तक यूपी में सात विधायक पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) और दारा सिंह (Dara Singh) के साथ कई इस्तीफों के बाद अब फिरोजाबाद स्थित शिकोहाबाद विधानसभा सीट (Shikohabad Firozabad) से भाजपा विधायक मुकेश वर्मा (BJP MLA Mukesh Verma ) ने बीजेपी का साथ छोड़ दिया है।

मुकेश वर्मा ने गुरुवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद कहा 'स्वामी प्रसाद मौर्य हमारे नेता हैं और वह जो भी फैसला करेंगे, हम उसका समर्थन करेंगे।' वर्मा ने दावा किया कि आने वाले समय में और भी नेता उनके साथ आएंगे।

मुकेश वर्मा

मुकेश वर्मा ने दावा करते हुए कहा कि हमारे साथ 100 विधायक हैं और बीजेपी को रोज इंजेक्शन लगेगा।' बीजेपी अगड़ों की पार्टी है और वहां दलितों और पिछड़ों का सम्मान नहीं है। पिछड़ों को टारगेट करके नौकरी नहीं लगने दी। वर्मा ने कहा 'बीजेपी दलित, अल्पसंख्यक और पिछड़ा विरोधी है। '

एक ट्वीट में मुकेश वर्मा ने कहा कि भाजपा सरकार ने 5 वर्ष के कार्यकाल में दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यक समुदाय के नेताओं व जनप्रतिनिधियों को कोई तवज्जो नहीं दी। दलित, पिछड़ों किसानों व बेरोजगारों की उपेक्षा की गई। इस कारण मैं भारतीय जनता पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं।

कॉन्सेप्ट इमेज

 

वहीं, दूसरी तरफ आज ही उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार के आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी ने सरकार की ओर से मिले आवास और सिक्योरिटी को वापस कर दिया। अब खबर है कि उन्होंने पार्टी से इस्तीफा भी दे दिया है। धर्म सिंह स्वामी प्रसाद मौर्य के बेहद करीबी हैं। माना जा रहा है कि वो भी सपा में शामिल होंगे।

स्वामी प्रसाद मौर्य

बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देकर सपा का हाथ थाम लिया था। स्वामी प्रसाद मौर्य दलित वर्ग का बड़ा चेहरा माने जाते हैं। बांदा जिले की तिंदवारी विधानसभा से बीजेपी विधायक ब्रजेश प्रजापति के साथ साथ रोशन लाल वर्मा और भगवती सागर ने भी बीजेपी को अलविदा कह दिया है। वहीं रोहित अग्रवाल ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कू पर कहा कि बीजेपी के दो और विधायक बाला अवस्थी और रामफेरन समाजवादी पार्टी के साथ आए हैं।

 

  • Share