अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर शैफाली वर्मा के रिकॉर्ड तोड़ने के बाद परिवार में खुशी का माहौल

Shafali Verma
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर शैफाली वर्मा के रिकॉर्ड तोड़ने के बाद परिवार में खुशी का माहौल

रोहतक। (अंकुर सैनी) भारतीय महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी शैफाली वर्मा ने एक बार फिर इतिहास रचा है। डेब्यू टेस्ट में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाली पहली महिला क्रिकेटर बन गई हैं। इसके बाद शैफाली के परिवार में खुशी का माहौल है। पिता का कहना है कि कड़ी मेहनत और देश के लोगों की दुआओं की वजह से आज उनकी बेटी इस मुकाम पर है।

दरअसल, भारत और इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीमों के बीच ब्रिस्टल में खेले जा रहे एकमात्र टेस्ट के दूसरे दिन शेफाली वर्मा ने वो कर दिखाया जो आज तक किसी खिलाड़ी ने नहीं किया था। महज 17 साल की शेफाली ने भारत की पहली पारी में 152 गेंदो में 96 रनों की पारी खेलकर 26 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

Shafali Verma
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर शैफाली वर्मा के रिकॉर्ड तोड़ने के बाद परिवार में खुशी का माहौल

वह डेब्यू टेस्ट में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाली भारतीय महिला क्रिकेटर बन गई हैं। रोहतक से निकलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का नाम रोशन करने वाली शैफाली अपनी प्रैक्टिस के वक्त लड़कों की बोल पर भी तेज रफ्तार से शॉट खेलती थी। परिणामस्वरूप आज भारत के लिए खेलकर शेफाली पुराने रिकॉर्ड तोड़ रही है।

यह भी पढ़ें- हरियाणा में कैबिनेट फेरबदल की चर्चाओं का सीएम ने किया खंडन

यह भी पढ़ें- पीएम किसान सम्मान निधि पाने वाले किसानों की मुश्किलें बढ़ीं

शेफाली के पिता संजीव ने कहा की उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है जो आज रोहतक नहीं बल्कि देश का भी नाम ऊंचा कर ही है। मैच से पहले बेटी से फोन पर हुई बात के दौरान पिता ने शेफाली से टाइमिंग पर ध्यान देते हुए निडर होकर खेलने के लिया कहा था। पिता ने कहा कि बेटी की जरूरत पूरी करने के लिए कई बार खुद की जरूरतों और खुशियों से समझौता किया है। शेफाली की मां प्रवीण ने कहा कि वें आज बेहद खुश हैं की उनकी बेटी पुराने रिकॉर्ड तोड़कर नए रिकॉर्ड स्थापित कर रही हैं। शेफाली को हमेशा बेटा समझकर घर से खेलने भेजती थी। उन्होंने कभी बेटा – बेटी में भेदभाव नहीं किया और उसका साथ दिया।

Shafali Verma Mother
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर शैफाली वर्मा के रिकॉर्ड तोड़ने के बाद परिवार में खुशी का माहौल

शेफाली और भाई साहिल दोनों एक साथ मैदान पर प्रैक्टिस करते थे। साहिल ने बताया कि शेफाली दूसरे खिलाड़ियों से काफी अलग थी। क्रिकेट मैच में अच्छे लड़कों के सामने बैटिंग कर अधिक रन बनाकर बेहतरीन प्रदर्शन करती थी। कोच शेफाली की बैटिंग के कारण उसे काफी मोटिवेट करते थे। जिसकी वजह से शेफाली आज इस मुकाम पर है और भविष्य में भी भारत की झोली में ज्यादा से ज्यादा रन बनाकर रिकॉर्ड डालती रहेगी।