तीसरे दिन मिला अंडरपास में डूबे व्यक्ति का शव, रेलवे अंडरपास में भरे पानी में फंस गया था मृतक

बहादुरगढ़। (प्रदीप धनखड़) बहादुरगढ़ में रेलवे अंडरपास में डूबे व्यक्ति का शव तीसरे दिन मिल गया है। दरअसल 2 दिन पहले हुई बरसात के कारण बहादुरगढ़ शहर को लाइनपार क्षेत्र से जोड़ने वाले रेलवे अंडर पास में करीब 17 फुट तक पानी भर गया था। इसी पानी से साइकिल पर सवार होकर गुजरते वक्त एक व्यक्ति डूब गया था। जिसे ढूंढने के लिए प्रशासन ने पंप सेट लगवाए, पानी बाहर निकालने का प्रयास किया और गोताखोर भी बुलाए। तब जाकर तीसरे दिन आज व्यक्ति का शव मिला है।

मृतक व्यक्ति की पहचान बामडोली गांव निवासी जय किशन के रूप में हुई है। जय किशन बहादुरगढ़ में एक फैक्ट्री में काम करता था और रोजाना की तरह काम खत्म कर घर की तरफ जा रहा था। जब वह अपनी साइकिल पर सवार होकर रेलवे अंडर पास से गुजर रहा था। तो वहां पानी में फस गया। जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें- संयुक्त मोर्चा से सस्पेंड होने पर किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने कही बड़ी बात

यह भी पढ़ें- चंडीगढ़ में लगाई गई धारा-144, धरने प्रदर्शनों पर रहेगी रोक

3 दिन चले सर्च ऑपरेशन के बाद आज जय किशन का शव पानी से बाहर आया है। शव फूल जाने के कारण अपने आप पानी के ऊपर तैरने लगा। जिसके बाद गोताखोरों की मदद से उसे बाहर निकाला गया। फिलहाल रेलवे पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है।

वहीं शव को पोस्टमार्टम के लिए बहादुरगढ़ के सामान्य अस्पताल में भिजवाया गया है। अंडरपास के अंदर भरे पानी में डूबने से व्यक्ति की मौत प्रशासन के पानी निकासी के सभी दावों को झूठा साबित कर रही है। करीब 32 करोड रुपए की लागत से तैयार इस रेलवे अंडरपास को बनवाने का श्रेय तो कांग्रेस और बीजेपी के स्थानीय नेता लेने में लगे हुए हैं। लेकिन अब जय किशन की मौत की जिम्मेदारी कौन सी राजनीतिक पार्टी लेगी यह देखने वाली बात होगी।

लगातार दो दिन हुई बरसात की वजह से बहादुरगढ़ शहर की सभी सड़कों, गलियों और कालोनियों में पानी भर गया था जिसकी वजह से आम लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। जिसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने पंपसेट लगवा कर अस्थाई रूप से समस्या का समाधान करने की कोशिश तो की है। लेकिन इस समस्या का स्थाई समाधान करने की आवश्यकता है। ताकि लोगों की जान बचाई जा सके और उन्हें किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े।