लॉकडाउन में जरूरतमंदों को तीन वक्त खाना, फरीदाबाद के आदित्य कर रहे मुहिम का नेतृत्व

Three times feeding for needy in lockdown, Aditya leading the campaign
लॉकडाउन में जरूरतमंदों को तीन वक्त खाना, फरीदाबाद के आदित्य कर रहे मुहिम का नेतृत्व

फरीदाबाद। कोरोना महामारी के चलते देश को लॉकडाउन किया गया है। इस वक्त में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं हो पा रहा लेकिन इस मुश्किल घड़ी में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो जरूरतमंदों की हर संभव मदद कर रहे हैं। इसी कड़ी में एक नाम है फरीदाबाद के माखन मिश्री मंदिर का जहां रोजाना कई हजार लोगों के लिए खाना बनाया और बांटा जाता है। इस मुहिम का नेतृत्व कर रहे हैं फरीदाबाद में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के डिप्टी कमिश्नर आदित्य भारद्वाज।

फरीदाबाद के माखन मिश्री मंदिर में लोगों के लिए 3 वक्त का भोजन बनाया जाता है। डिप्टी कमिश्नर आदित्य भारद्वाज बताते हैं कि जिस दिन लॉक डाउन की खबर सुनी उस दिन मन परेशान हुआ और सोचा कि किस तरह से उन लोगों की मदद की जाए जो इस मुश्किल घड़ी में खाना तक नहीं खा पाएंगे। इसी के चलते उन्होंने अपने कुछ करीबियों को ब्रॉडकास्ट मैसेज किया, जिसके बाद से लोगों ने उन्हें मदद के लिए आश्वासन दिया और इसी तरह से उन्होंने कुछ लोगों से बात की जो वालंटियर के तौर पर मदद करने को तैयार थे फिर उन लोगों तक पहुंच बनाई गई जिन्हें खाने की जरूरत थी। उसके बाद से यह सिलसिला शुरू हुआ।

Three times feeding for needy in lockdown, Aditya leading the campaign
लॉकडाउन में जरूरतमंदों को तीन वक्त खाना, फरीदाबाद के आदित्य कर रहे मुहिम का नेतृत्व

आदित्य बताते हैं पहले दिन सिर्फ 500 लोगों के लिए इंतजाम किया गया था। हालांकि उसके बाद मांग बढ़ने लगी और फिर जब मजदूरों का पलायन शुरू हुआ तो 10000 से ज़्यादा लोगों के लिए भोजन तीनों वक्त में उपलब्ध कराया गया। उन्होंने बताया कि एक टीम विशेष तौर से बंदरों और कुत्तों को खिलाने के लिए नियुक्त की गई है क्योंकि इस समय में लोग घर से नहीं निकल पा रहे जिसके चलते जानवर भूखे हैं। आदित्य का कहना है कि यह मुहिम तब तक जारी रहेगी जब तक जिंदगी वापस पटरी पर नहीं लौट आती।

आदित्य की इस मुहिम में उनके साथ आने वाले पर सबसे पहले शख्स और माखन मिश्री मंदिर के संचालक धनीश गोयल के मुताबिक वह लोग फिलहाल फरीदाबाद तक ही सीमित है लेकिन उनका प्रयास है कि फरीदाबाद से लगते इलाकों जैसे सोहना, पलवल, बदरपुर या यमुना के किनारे बसे गरीबों तक भी खाना पहुंचे। उन्होंने बताया कि उनके पास करीब डेढ़ लाख लीटर तक आरओ वाटर का इंतजाम है और उनकी कोशिश है कि यह भी जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जाए।

—PTC NEWS—