अपराध/हादसा

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड: शूटर्स ने सिरसा के किरमारा गांव में रखा था हथियारों का जखीरा, दो युवक गिरफ्तार

By Vinod Kumar -- June 22, 2022 2:36 pm

हिसार/संदीप सैनी: सिद्दू मूसे वाला हत्याकांड के तार शुरू से ही हिसार से जुड़ते आ रहे हैं। अब हिसार के किरमारा गांव से दिल्ली पुलिस ने हिसार के किरमारा गांव में छापेमारी की है।

छापेमारी में दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने किरमारा गांव के पास खेतों में बने घर में दस्तक दी और वहां से गांव के दो युवकों मनीष और नवदीप को गिरफ्तार किया था। घरवालों से बातचीत के बाद सामने आया है कि वह पुरानी गाड़ी की खरीद फरोख्त का काम करते हैं। उनके बेटों के साथ काम करने वाले प्रदीप नाम के साथ दो युवक उनके घर रुके थे। यह दोनों सिद्धू मूसेवाला के हत्यारे शूटर प्रियव्रत फौजी और अंकित थे।

दिल्ली पुलिस द्वारा सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने वाले शूटर प्रियव्रत फौजी और उसके उसके साथियों द्वारा छिपाकर रखी असाल्ट राइफल, नौ डेटोनेटर, नौ हैंड ग्रेनेड और तीन पिस्टल यहां से बरामद किए हैं। दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम किरमारा गांव के दो युवकों मनीष और नवदीप को भी अपने साथ लेकर गई है। इन्हीं युवकों के घर पर बैग में यह हथियार रखे गए थे।


युवकों के माता-पिता का कहना है कि उनके बेटे गाड़ी सेल परचेज का काम करते थे और प्रदीप नाम के युवक के साथ उनका लेना-देना चलता रहता था। कुछ दिन पहले प्रदीप दो युवकों को लेकर उनके घर आया था और वह एक रात उनके घर रहे थे उस समय उनके दोनों बेटे व पिता बीमार होने के चलते हिसार के अस्पताल में थे। वह सब रात को उनके घर रुके और सुबह वापस चले गए थे।

पिता रामेश्वर माता सरोज का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि कौन उनके घर यह बैग रख कर गया था ना ही वह इस बारे में जानते। कुछ लोग आए और उनके दोनों बेटों को पकड़कर ले गए और बाद में वापस लौट कर आए तो घर के बाहर की साइड बने एक स्टोर जिसमें कबाड़ रखा जाता है वहां से एक बैग भी लेकर गए।

 

गौरतलब है कि सिद्दू मूसे वाला हत्याकांड के मुख्य आरोपी प्रियव्रत फौजी व उसका साथी अंकित वारदात को अंजाम देने के बाद प्रदीप नाम के व्यक्ति के साथ किरमारा गांव में आकर रुके थे एक रात रहने के बाद वह वहां से निकल गए थे। दिल्ली पुलिस के अनुसार उन दोनों की शिनाख्त पर ही उसी घर में से यह असलाह बरामद हुआ है।

हालांकि घर में मौजूद दोनों युवकों की मां ने कहा कि मैं सिर्फ प्रदीप को जानती थी अन्य दो युवकों को नहीं जानती थी। हमें कुछ नहीं पता यहां यह बैग कैसे आया किसने रखा। कुछ लोग हमारे दोनों बेटों को पकड़ कर ले गए हैं। हमें तो यह भी नहीं पता कि वह कौन थे। बाद में स्थानीय पुलिस ने आकर बताया कि आपके बच्चों को दिल्ली पुलिस पकड़ कर ले गई है।

  • Share