Advertisment

Haryana: सगोत्र विवाह पर सरकार क्यों नहीं लगा रही‌ रोक, इसे किया जाए अवैध- रमेश दलाल

किसान नेता रमेश दलाल ने कहा कि सरकार सगोत्र विवाह पर रोक क्यों नहीं लगा रही‌ इसे अवैध किया जाए। ऐसे मामले आने से खूनी संघर्ष होता । चाचा, ताऊ, मामा, मौसी के परिवारों में शादियां नहीं होनी चाहिए। यह मुस्लिम समुदाय में होता है।

author-image
Rahul Rana
New Update
xz
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment

ब्यूरो: किसान नेता रमेश दलाल ने कहा कि सरकार सगोत्र विवाह पर रोक क्यों नहीं लगा रही‌ इसे अवैध किया जाए। ऐसे मामले आने से खूनी संघर्ष होता । चाचा, ताऊ, मामा, मौसी के परिवारों में शादियां नहीं होनी चाहिए। यह मुस्लिम समुदाय में होता है। हिंदूओं में भी होने लगा है। जाटों अन्य 6 जातियों को ओबीसी का आरक्षण दिया जाए। जब राजस्थान और दिल्ली में मिल सकता है तो हरियाणा में क्यों नहीं। यह समानता के अधिकार का हनन है।  जाट , बिश्ननोई,  रोड़ , त्यागी आदि जातियों को आरक्षण मिले। 

Advertisment

वहीं दूसरी तरफ उन्होंने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने का धन्यवाद किया। लेकिन ताऊ देवीलाल को भी भारत रत्न देना चाहिए। उनकी वजह से आज पूरे देश में बुढापा पेंशन है। हरियाणा में जमीन अधिग्रहण का जो कानून पास किया गया है हम उसका विरोध करते हैं। इसमें संसोधन होना चाहिए।

किसान आंदोलन को लेकर कहा कि पहले संयुक्त किसान मोर्चा में 500 किस संगठन थे आज सिर्फ 200 है सभी को मिलकर आंदोलन करना चाहिए। अगर किसान संगठन हमारी मांगों को भी आंदोलन में शामिल करेंगे तो हम भी उनके साथ जुड़ेंगे।‌किसान नेताओं ने जमीन अधिग्रहण का मुद्दा कभी नहीं उठाया यह उठाया जाना चाहिए। 

 

Advertisment

WATCH VIDEO – किसान नेता रमेश दलाल ने कहा कि सरकार समगौत्र विवाह पर रोक क्यों नहीं लगा रही‌ इसे अवैध किया जाए।

उन्होंने  कहा कि हम पंजाब से मांग करते हैं कि हरियाणा तो एसवाईएल का पानी मिलना चाहिए। एसवाईएल नहर को बनाया जाए और हरियाणा को उसका हक मिलना चाहिए।  पंजाब हरियाणा का बड़ा भाई है। बड़ा भाई तो वैसे भी छोटे भाई को ज्यादा ही दे देता है। हम सिर्फ हमारा हक ही मांग रहे हैं।



सरकार ने लाल कृष्ण आडवाणी सिर्फ राम मंदिर कए नाम पर भारत रत्न दे दिया। ताऊ देवीलाल भी देश के उप प्रधानमंत्री रहे। देश और किसानों के लिए बहुत काम किया। तो उन्हें भारत रत्न क्यों नहीं दिया जा सकता।

haryana
Advertisment

Stay updated with the latest news headlines.

Follow us:
Advertisment