राजनीति

अब अपराधियों की खैर नहीं, पंजाब में गैंगस्टरों पर नकेल कसने के लिए एंटी-गैंगस्टर टास्क फोर्स होगी गठित

By Vinod Kumar -- April 05, 2022 2:41 pm -- Updated:April 05, 2022 5:42 pm

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Bhagwant Mann) ने अब लॉ एंड ऑर्डर सुधारने का फैसला किया है। मंगलवार को उन्होंने सभी जिलों के एसएसपी के साथ बैठक की और उन्हें एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (Anti Gangster Task Force) बनाने का आदेश दिया है। इस टास्क फोर्स का नेतृत्व एडीजीपी रैंक का ऑफिसर करेगा। इससे पहले सोमवार को भी कानून व्यवस्था को लेकर सीएम ने सभी जिलों के डीसी के साथ मीटिंग की थी।

 

टास्क फोर्स के स्पेशल पुलिस थाने बनेंगे। वहीं यह पूरे राज्य में कहीं भी कार्रवाई कर सकेंगे। जिनका अधिकार क्षेत्र पूरे राज्य का होगा, ताकि पुलिस थानों में कोऑर्डिनेट करने की परेशानी न हो। फोर्स को गैंगस्टर पर केस दर्ज करने से लेकर सजा दिलाने तक का जिम्मा होगा। इसके जरिए पंजाब में ऑर्गेनाइज्ड क्राइम को खत्म किया जाएगा। हर जिले का SSP और पुलिस कमिश्नर टास्क फोर्स के साथ तालमेल रखेगा। इनके लिए अलग से बजट का प्रावधान भी रखा जाएगा।

पंजाब में गैंगस्टरों की समस्या इतनी गंभीर है कि सरकार को बठिंडा जेल में एक विशेष गैंगस्टर सेल विकसित करना पड़ा जहां सभी गैंगस्टर कैद हैं। हालांकि पंजाब पुलिस कैप्टन सरकार के कार्यकाल में एक बार सभी ए-श्रेणी के गैंगस्टरों का सफाया कर चुकी है जिसमें बीते साल पुलिस मुठभेड़ में जयपाल की हत्या हुई थी और अब नए खिलाड़ी सामने आ रहे हैं।

नए गैंगस्टर पुरानों से संबंधित किसी न किसी गुट से जुड़े हुए हैं। इनका नेटवर्क इतना खतरनाक है कि ये सोशल मीडिया पर पूरी तरह से एक्टिव रहते हैं। पंजाब के कुछ खूंखार गैंगस्टर जो अब नहीं रहे सोशल मीडिया पर जिंदा हैं। दविंदर बंबीहा, विक्की गौंडर, सुखा कहलों और हाल ही में मारे गए जयपाल भुल्लर सभी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं।

वर्ष 2017 के चुनाव से पहले राज्य में 400 से ज्यादा गैंगस्टरों के ग्रुप पंजाब में सक्रिय थे। कैप्टन सरकार के सत्ता में आने के बाद इन्हें खत्म करने की जबरदस्त मुहिम चलाई गई थी और बड़े गैंगस्टर एनकाउंटर में मारे गए थे। कुछ ने डर के मारे खुद ही सरेंडर कर दिया था।

 

कांग्रेस बना रही जंगलराज का मुद्दा
पंजाब में कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस ने मुद्दा बना रखा है। कांग्रेस नेता नवजोत सिद्धू ने भी मुद्दा उठाया कि AAP सरकार बनने के बाद पंजाब में 5 कांग्रेसियों की हत्या हो चुकी है। कल ही लुधियाना में कांग्रेस के वार्ड प्रधान की हत्या कर दी गई। सिद्धू ने इसे जंगलराज करार दिया। सिद्धू ने चेतावनी भी दी कि अगर हत्यारे पकड़े नहीं गए तो कांग्रेस की लीडरशिप पुलिस कमिश्नर ऑफिस के बाहर धरना देगी।

अब तक ये फैसले ले चुकी है सरकार
भगवंत मान ने अब तक कई बड़े फैसले लिए हैं, जिसमें घर बैठे राशन योजना की शुरुआत की गई है। राज्य में एंटी करप्शन हेल्पलाइन (Anti Corruption Helpline) भी बनाई गई है। पंजाब के विधायकों के पेंशन फॉर्मूले में बदलाव को लेकर भगवंत मान ने बड़ा फैसला लिया। नए फैसले के तहत विधायक अब सिर्फ एक ही पेंशन के हकदार होंगे। अपनी पहली ही कैबिनेट बैठक में नौकरियों को मान ने ऐलान किया कि एक महीने के भीतर 25,000 सरकारी नौकरियां निकाली जाएगी। इसके साथ ही पंजाब सरकार ने कीड़े की वजह से खराब फसलों के मुआवजे का भी ऐलान किया है।

  • Share