अपराध/हादसा

तिहाड़ जेल में रची गई थी सिद्धू मूसेवाला की हत्या की साजिश! पिता ने की NIA-CBI जांच की मांग

By Vinod Kumar -- May 30, 2022 12:24 pm -- Updated:May 30, 2022 1:11 pm

मानसा में रविवार को सिद्धू मूसेवाला की सरेआम गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। उनकी गाड़ी पर कई राउंड फायर किए गए थे। हत्या की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गोल्डी बराड़ ने ली है जो अभी कनाडा में रह रहा है। बताया जा रहा है कि बिश्नोई गैंग का विरोधी गैंग सिद्धू मूसेवाला का समर्थन कर रहा था इसलिए मूसेवाला लॉरेंस गैंग के निशाने पर थे।

इंडिया टूडे की वेबसाइट के मुताबिक अब इस हत्याकांड में नया खुलासा हुआ है। सिद्धू की हत्या कहीं और नहीं, बल्कि दिल्ली की तिहाड़ जेल में रची गई थी। खबर के मुताबिक तिहाड़ जेल में बंद लॉरेंस बिश्नोई ने वर्चुअल नंबरों से विदेश में बैठे गोल्डी बराड़ से कई बार इस सिलसिले में बात की थी। लॉरेंस बिश्नोई को रिमांड पर लेकर पंजाब पुलिस इस मामले में पूछताछ कर सकती है।

इस समय लारेंस बिश्नोई तिहाड़ की जेल नम्बर 8 की हाई सिक्योरिटी जेल में बंद है और जेल से ही गैंग चलाता है। लॉरेंस गैंग यूपी, पंजाब, हिमाचल, हरियाणा तक पहले हुआ है। इसके गैंग में 700 से अधिक गुर्गे और कई शार्प शूटर भी हैं। गैंग का मुख्य काम कारोबारियों से रंगदारी वसूल करना है।

वहीं, पुलिस ने मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह के बयान पर सदर थाना मानसा में एफआईआर दर्ज की है। सिद्धू के पिता भगवंत मान को चिट्ठी लिखकर मामले की एनआईए या सीबीआई जांच करवाने की बात कही है। जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया है।

मूसेवाला के पिता ने शिकायत में कहा कि उनके बेटे से कई गैंगस्टर फिरौती मांगते रहते थे। उन्हें जान से मारने की धमकियां दी जाती थी। गैंगस्टर लॉरेन्स बिश्नोई गैंग ने उसे कई बार फिरौती की धमकियां भेजी। इसीलिए उन्होंने ने एक बुलेटप्रूफ फॉर्च्यूनर गाड़ी भी रखी हुई थी।

फिल्हाल सिद्धू मूसेवाला के गांव मूसा में उनके घर के बाहर पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी है। सिद्धू मूस्सेवाला की हत्या के बाद पंजाब और हिंदी सिनेमा जगत स्तब्ध है। कई फिल्मी हस्तियों ने सोशल मीडिया पर सिद्धू मूस्सेवाला की हत्या पर शोक प्रकट किया है।

घटना के बाद मुख्यमंत्री भगवंत मान ने पंजाब समेत मूसेवाला के समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की है। हत्या के एक दिन पहले ही सिद्धू मूसेवाला की सिक्योरिटी कम गई थी। इसे लेकर भी कांग्रेस और उन्य पार्टियां भगवंत मान सरकार पर सवाल उठा रहे हैं।

 

  • Share