पीएम मोदी बोले- सब तक पहुंचेगी वैक्सीन, डिस्ट्रीब्युशन पर अभी से काम शुरू कर दें राज्य

Coronavirus India
पीएम मोदी बोले- सब तक पहुंचेगी वैक्सीन, डिस्ट्रीब्युशन पर अभी से काम शुरू कर दें राज्य

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज COVID19 स्थिति को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ एक वर्चुअल बैठक की। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी भाग लिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शुरू से ही एक-एक देशवासी का जीवन बचाना हमारी प्राथमिकता रही है। अब वैक्सीन आने के बाद भी हमारी प्राथमिकता होगी कि सब तक हमारी वैक्सीन पहुंचे। कोरोना की वैक्सीन से जुड़ा भारत का अभियान अपने हर नागरिक के लिए एक नेशनल कमिटमेंट है।

Coronavirus India
पीएम मोदी बोले- सब तक पहुंचेगी वैक्सीन, डिस्ट्रीब्युशन पर अभी से काम शुरू कर दें राज्य

पीएम मोदी ने कहा कि वैक्सीन को लेकर भारत के पास जैसा अनुभव है वो दुनिया के बड़े- बड़े देशों को भी नहीं है। हमारे लिए स्पीड जितनी जरूरी है उतनी ही जरूरी सेफ्टी भी है। भारत जो भी वैक्सीन अपने नागरिकों को देगा वो हर वैज्ञानिक कसौटी पर खरी होगी।

यह भी पढ़ें- हरियाणा में बढ़ते कोरोना संक्रमण के लिए भाजपा-जजपा सरकार जिम्मेदार: सैलजा

Coronavirus India
पीएम मोदी बोले- सब तक पहुंचेगी वैक्सीन, डिस्ट्रीब्युशन पर अभी से काम शुरू कर दें राज्य

“जहां तक वैक्सीन के डिस्ट्रीब्युशन की बात है उसकी तैयारी भी आप सभी राज्यों के साथ मिलकर की जाएगी। वैक्सीन प्राथमिकता के आधार पर किसे लगाई जाएगी ये राज्यों के साथ मिलकर डिसाइड होगा। राज्यों को इस पर काम करना शुरू कर देना चाहिए। इसकी अतिरिक्त सप्लाई पर भी काम किया जाएगा”, PM मोदी।

प्रधानमंत्री ने साफ किया कि भारत जो भी वैक्सीन अपने नागरिकों को देगा, वो हर वैज्ञानिक कसौटी पर खरी होगी। जहां तक वैक्सीन के वितरण की बात है, तो उसकी तैयारी भी आप सभी राज्यों के साथ मिलकर की जा रही है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस हिमाचल: 31 दिसंबर तक स्कूल बंद, चार जिलों में नाइट कर्फ्यू

वहीं प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि टेस्टिंग और ट्रेसिंग में तेजी लानी होगी, हमें कोविड पर फोकस रखना होगा, जिससे ये और न फैले। हम सभी को पहले से भी अधिक जागरूक रहने की जरुरत है। हमें ट्रांसमिशन को कम करने के लिए आने प्रयासों को और गति देने की जरूरत है।

पीएम के मुताबिक हमें लोगों को कोरोना की गंभीरता के प्रति फिर से जागरूक करना ही होगा। हमें किसी भी हालत में ढिलाई नहीं बरतनी है। आपदा के गहरे समंदर से निकल कर हम किनारे की तरफ बढ़ रहे हैं। जबकि पूरी दुनिया मानती थी कि भारत ये नहीं कर पाएगा।