उतराखंड सरकार ने हरियाणा रोडवेज की बस को भेजा वापस, यह है वजह

Haryana Roadways Bus Returned
उतराखंड सरकार ने हरियाणा रोडवेज की बस को भेजा वापस, यह है वजह

फतेहाबाद। (साहिल रुखाया) अगर किसी को हरिद्वार जाना है तो उसके पास कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए। अगर किसी के पास नहीं होगी तो उसे बस में सफर नहीं करने दिया जाएगा। यह फैसला फतेहाबाद रोडवेज विभाग ने कर दिया है। दरअसल उत्तराखंड सरकार ने आदेश दिया है कि उनके राज्य में जो भी प्रवेश करेगा उसके पास कोरोना नेगेटिव की रिपोर्ट होनी चाहिए।
यही कारण है कि सुबह टोहाना से हरिद्वार से निकली बस को वापस भेज दिया गया। क्योंकि यात्रियों के पास कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट नहीं थी। उत्तराखंड के छुटमलपुर से बस को वापस भेज दिया गया। किसी के पास कोरोना नेगेटिव की रिपोर्ट नहीं थी। जिसके बाद कुछ लोग तो वापस आ गए तो कुछ लोग वहीं आसपास क्षेत्र में उतर गए।

उतराखंड सरकार ने हरियाणा रोडवेज की बस को भेजा वापस, यह है वजह

फतेहाबाद से एक और टोहाना से एक बस हरिद्वार के लिए रवाना हुई थी। दोनों बस में करीब 100 सवारियां थी। दोनों बसें जब उत्तराखंड के छुटमलपुर के पास पहुंची तो बस को रूकवा लिया। वहां पर स्वास्थ्य विभाग व पुलिस विभाग की टीम ने यात्रियों की जांच शुरू कर दी। सभी से कोरोना रिपोर्ट भी मांगी। रोडवेज चालक व परिचालक के पास भी किसी तरह की रिपोर्ट नहीं थी। दोनों बस चालकों ने कहा कि उन्हें जाने दे। लेकिन वहां पर मौजूद अधिकारियों ने बस को वापस भेज दिया।

उतराखंड सरकार ने हरियाणा रोडवेज की बस को भेजा वापस, यह है वजह

इसके अलावा आते समय 70 के करीब सवारियां रास्ते में उतर गई तो 30 वापस भी आ गई। फतेहाबाद रोडवेज विभाग की ओर से आदेश जारी कर दिए है कि हरिद्वार जाने वाली बस में वही सफर कर सकता है जिसके पास कोरोना रिपोर्ट होगी। यह रिपोर्ट भी 36 घंटे से अधिक की ना हो। अगर उससे पहले की होगी तो बस में सफर नहीं करने दिया जाएगा।

Haryana Roadways Bus Returned
उतराखंड सरकार ने हरियाणा रोडवेज की बस को भेजा वापस, यह है वजह

फतेहाबाद से सुबह 5 बजे तो टोहाना से साढ़े 5 बजे हरिद्वार के लिए बस रवाना होती है। रोडवेज़ विभाग के डीआइ राम सिंह ने कहा कि हमारी तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है कि उतराखंड के हरिद्वार जाने वाले यात्रियों के पास कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए। सुबह कर्मचारी चेक करेंगे। इसके अलावा चालक व परिचालकों को भी आदेश दिए हैं कि वो भी अपना टेस्ट करवाए। अगर रिपोर्ट उनके पास भी नहीं होगी तो उन्हें नहीं भेजा जाएगा।