हरियाणा

आर्मी में भर्ती के इच्छुक युवाओं को आयु सीमा में 3 साल की छूट दे सरकार, जल्द भरे जाएं सेना में खाली पद: दीपेंद्र हुड्डा

By Vinod Kumar -- May 09, 2022 6:14 pm -- Updated:May 09, 2022 6:23 pm

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने 3 साल से सेना में भर्ती बंद होने पर गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि संसद में उन्होंने सरकार से सेना में खाली पड़े पदों की जानकारी मांगी तो उनके सवाल के जवाब में केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने माना कि सेना में गैर अधिकारी वर्ग के 8139 पद और जेसीओ/ओआर के 108685 पद खाली हैं।

दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि नौ सेना में अधिकारी वर्ग के 1557 और नौसैनिक के 11709 पद खाली हैं। वहीँ वायु सेना में अधिकारी वर्ग में 571 और वायुसैनिकों के 4970 पद खाली पड़े हैं। ये जानकारी सामने आते ही देश भर में सेना में भर्ती खोलने की मांग तेज़ी से उठ रही है। जब तीनों सेनाओं में पद ही खाली पड़े हैं तो देश की सुरक्षा मजबूत कैसे होगी।

दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि सेना में भर्ती खुलने से न केवल बेरोज़गारी दूर होगी बल्कि राष्ट्र की सुरक्षा भी मजबूत होगी। राष्ट्र की सुरक्षा के मामले में सरकार को खजाने की तरफ नहीं देखना चाहिए। सरकार अगर ये सोचती है कि भर्ती नहीं होगी और वेतन नहीं देना पड़ेगा तो ये सोच खराब है। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने मांग करते हुए कहा कि सरकार तुरंत सेना भर्ती शुरू करे और सेना में भर्ती के इच्छुक युवाओं को आयु सीमा में 3 साल की छूट, अतिरिक्त प्रयासों की अनुमति समेत उनकी सभी जायज मांगें स्वीकार करे। उन्होंने सरकार को चेताया कि अगर युवाओं की मांगें नहीं मानी गई तो कांग्रेस पार्टी सड़क से संसद तक उनके हकों की लड़ाई लड़ेगी।

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा के गांव-गांव में भोर से लेकर देर रात तक किसी भी समय देखा जा सकता है कि हमारे युवा सेना भर्ती की तैयारी के लिये दौड़ लगा रहे हैं। उनका एक ही सपना है भारतीय फौज में भर्ती होकर देश की सेवा करना। फौज में भर्ती होने के लिए प्रदेश के युवा दिन-रात मेहनत कर रहे हैं, लेकिन सरकार उनकी मेहनत और देश सेवा की भावना की उपेक्षा कर रही है। 62 की लड़ाई हो या 65 की, 71 की हो या करगिल की हर युद्ध में हरियाणा के सैनिकों ने देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए बड़ी से बड़ी कुर्बानी दी है।

 Deepender Hooda, army, indian army, army rally, army bharti

उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश में पहले ही सर्वाधिक बेरोजगारी की मार झेल रहे युवाओं की फ़ौज में भर्ती की उम्र भी निकलती जा रही है। इसी निराशा और हताशा के चलते पिछले दिनों भिवानी के तालू गांव निवासी युवा पवन ने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया, लेकिन इस संवेदनहीन सरकार के उप-मुख्यमंत्री ने पवन की मौत का भी मजाक उड़ाया जो दुर्भाग्यपूर्ण है। कोरोना के नाम पर सेना में भर्तियां बंद होने से हरियाणा के युवाओं ने जबर्दस्त आक्रोश है। रोहतक, झज्जर, हिसार, जींद, कैथल, भिवानी समेत हरियाणा के हर जिले में युवा सड़कों पर उतर कर सेना में भर्ती शुरू करने की मांग कर रहे हैं। दीपेन्द्र हुड्डा ने सरकार से आग्रह किया कि वो युवाओं के सब्र का इम्तिहान न ले।

Deepender Hooda on Farmers Protest

दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि 2% आबादी वाले हरियाणा से सबसे ज्यादा युवा सेना में भर्ती होकर देश सेवा करते हैं। ये ऐसी भूमि है जहां के जवानों में राष्ट्र की सेवा के प्रति जज्बा है। सेना में हर 10वां जवान हरियाणा से है। हरियाणा उन राज्यों में से एक हैं जहां सबसे ज्यादा सैनिक, पूर्व सैनिक और उनके परिवार रहते हैं। ऐसे में सेना की खुली भर्ती आयोजित न होने से राज्य के युवा अब सड़कों पर उतरने को मजबूर हो रहे हैं।

  • Share