adv-img
हरियाणा

मानेसर भूमि अधिग्रहण मामले में किसानों-महिलाओं ने पीएम हाउस के लिए किया कूच, पुलिस ने हिरासत में लिया

By Vinod Kumar -- October 6th 2022 04:06 PM

गुरुग्राम/नीरज वशिष्ठ: मानेसर की 1810 एकड़ भूमि अधिग्रहण मामले में वीरवार की सुबह किसानों और पुलिस के बीच जम कर धक्कामुक्की हुई। पुलिस ने सैकड़ों की संख्या में किसानों और महिलाओं को उस वक़्त हिरासत में ले लिया, जब उन्होंने प्रंधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने के लिए दिल्ली की ओर कूच किया। गिरफ्तार किसानों को पुलिस ने नोरंगपुर पुलिस लाइन में रखा है।

दरअसल मानेसर से सटे 25 गांवों की लगभग 1810 एकड़ जमीन के अधिग्रहण के लिए 2011 के तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा के कार्यकाल में अधिसूचना जारी की गई थी। उस समय किसानों के विरोध के चलते ये मामला हाईकोर्ट पहुंच गया था, जिस पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने एक कमेटी बनाने के आदेश दिए थे। इतना ही नहीं कोर्ट ने किसानों के साथ बैठ कर इस मसले को सुलझाने की बात भी की थी, लेकिन 2022 में भी ये मामला लंबित है।

इसी मामले में किसान एवं महिलाएं आज मानेसर से दिल्ली पीएम हाउस प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन देने जा रहे थे। इसी बीच इन्हें हिरासत में ले लिया गया। वीरवार सुबह करीब 10 बजे सैकड़ों की संख्या में किसान एवं महिलाएं एकत्रित हुए और दिल्ली कूच करने लगे। जैसे ही ये सभी दिल्ली-जयपुर हाइवे पर पहुचे तो पुलिस ने इन्हें हिरासत में ले लिया।

हिरासत में लिए गए किसानों को रोडवेज बसों के जरिए शहर के अलग-अलग थानों में भेज दिया गया। वहीं, किसानों ने आरोप लगाया कि खट्टर सरकार उन लोगों के साथ ज्यादती कर रही है। जिस तरह बावल में भूमि अधिग्रहण के आदेश वापिस लिए गए, उसी तरह मानेसर की अधिग्रहित भूमि के आदेश भी वापिस लिए जाएं।

किसानो का साफतौर पर कहना है कि बीजेपी सांसद की अपील के बाद भी मनोहर लाल खट्टर अपने आदेश वापस नहीं ले रहे हैं। इतना ही नहीं किसानों का कहना है कि वह मर जाएंगे पर अपनी जमीन नही देंगे। वहीं, महिलाओं ने आरोप लगाया कि पुलिसकर्मियों ने उनके साथ बदतमीजी की है। कुछ का आरोप यह भी था कि इस धक्का-मुक्की में उनकी सोने की चेन और कान के कुंडल तक गिर गए हैं। धक्कामुक्की में कई महिलाओं को चोट लगने की भी खबर है।

  • Share