Advertisment

Uttarkashi Tunnel Accident: मंडी जिले के विशाल पहुंचा घर, ढोल नगाड़ों के साथ हुआ जोरदार स्वागत, मां ने उतारी आरती

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में निर्माणाधीन टनल में 17 दिन तक फंसे रहने के बाद सुरक्षित बाहर निकले 20 वर्षीय विशाल का घर पहुंचने पर जोरदार स्वागत हुआ। मां ने बेटे की आरती उतारी और गले लगाया।

author-image
Deepak Kumar
Updated On
New Update
Uttarkashi Tunnel Accident: मंडी जिले के विशाल पहुंचा घर, ढोल नगाड़ों के साथ हुआ जोरदार स्वागत, मां ने उतारी आरती
Advertisment

ब्यूरोः उत्तराखंड के उत्तरकाशी में निर्माणाधीन टनल में 17 दिन तक फंसे रहने के बाद सुरक्षित बाहर निकले 20 वर्षीय विशाल का घर पहुंचने पर जोरदार स्वागत हुआ। विशाल  हिमाचल प्रदेश के मंडी में बल्ह घाटी के बंगोट गांव का रहना वाला है। विशाल के घर पहुंचने का मां उर्मिला और दादी गरवधनू बेसब्री से इंतजार कर रही थीं। बेटे के घर पहुंचने पर खुशी में मां उर्मिला भावुक हो गईं। मां ने बेटे की आरती उतारी और गले लगाया। मीडिया के साथ विशाल ने आपबीती भी सुनाई।



विशाल ने बताई आपबीती

विशाल ने बताया कि उनकी नाइट ड्यूटी थी, सुबह साढ़े पांच बजे खबर मिली की टनल बंद हो गई है जिस कारण वे वहीं फंस गए। पानी के मार्ग से ऑक्सीजन का इंतजाम किया। 24 घंटे बाद कंपनी के साथ बातचीत भी हुई और हल्का खाना उनके लिए भेजा गया। करीब 17 दिन बाद उन्हें सुरक्षित बाहर निकाला गया, जिसके बाद उनके स्वास्थ्य की जांच की गई। विशाल ने बताया कि उन्हें कंपनी ने 2-2 लाख का चेक दिया है। वहीं, विशाल ने प्रदेश सरकार से युवाओं के लिए हिमाचल में ही नौकरी की मांग की है ताकि उन्हें नौकरी के लिए दूसरे राज्यों में ना जाना पड़े।



विशाल ने पीएम मोदी और उतराखंड सरकार का जताया आभार

विशाल ने कहा कि उत्तरकाशी में निर्माणाधीन टनल में 17 दिन तक 41 लोग फंसे रहे और सभी को सुरक्षित बाहर निकाला गया, सभी मजदूर घर पहुंच गए है और स्वस्थ है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उतराखंड की सरकार का आभार जताया।

 

बता दें कि मंडी जिले के बल्ह उपमंडल के बंगोट गांव में विशाल का घर है, जब से विशाल अपने 41 साथियों के साथ टनल में फंसा था, तब से उसके परिजन बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। विशाल अपने भाई के साथ टनल प्रोजेक्ट में कार्यरत था। टनल के धंसने के बाद विशाल के पिता मौके के लिए रवाना हुए थे और 17 दिन तक अपने लाड़ले के इंतजार में वहां रहे। घर पर विशाल की मां और दादी बेटे की चिंता में डूबे हुए थे, लेकिन अब लाड़ला घर पहुंच गया है। विशाल के घर लौटने पर स्थानीय विधायक इंद्र सिंह गांधी, जिला परिषद सदस्य प्रियंता शर्मा सहित पंचायत पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया।

himachal-pradesh-news hp-news uttarkashi-tunnel-collapse silkyara-tunnel-rescue uttarkashi-tunnel-accident
Advertisment

Stay updated with the latest news headlines.

Follow us:
Advertisment