हरियाणा

अज्ञात योगी के सहारे चल रहा था शेयर बाजार का NSE, पूर्व CEO चित्रा के घर पर आईटी की रेड

By Vinod Kumar -- February 17, 2022 1:38 pm -- Updated:February 17, 2022 1:59 pm

एनएसई (NSE) की पूर्व सीईओ चित्रा रामकृष्णा (Chitra Ramkrishna) के ठिकानों पर आयकर विभाग ने आज गुरुवार को छापेमारी की है। उनपर NSE से जुड़ी सीक्रेट जानकारियां अज्ञात लोगों से शेयर करने का आरोप है, जिससे उनको अवैध आर्थिक लाभ हुआ था।

इससे पहले सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ( SEBI) ने 11 फरवरी को रामकृष्ण पर एक्सचेंज की आंतरिक गोपनीय जानकारी को किसी अज्ञात व्यक्ति के साथ साझा करने के लिए चित्रा पर 3 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। इसके अलावा चित्रा पर एक वरिष्ठ अधिकारी आनंद सुब्रमण्यन की नियुक्ति में अनियमितता बरतने का भी आरोप है। इसके लिए NSE और वरिष्ठ मैनेजमेंट भी जिम्मेदार था।

Income tax raid at former NSE chairman Chitra Ramakrishna house

रामकृष्ण ने सुब्रमण्यन के कंपनसेशन के संबंध में फैसलों पर कहा था कि उन्होंने ये सब एक अज्ञात योगी के कहने पर किया था जो हिमालय में रहता है। चित्रा 2013 से 2016 के दौरान एनएसई की सीईओ रही और इस दौरान शेयर बाजार के सारे बड़े-छोटे फैसले अज्ञात योगी के इशारे पर होते रहे।

Income tax raid at former NSE chairman Chitra Ramakrishna house

बता दें कि एनएसई (NSE) भारत का सबसे बड़ा शेयर बाजार है, जिसमें रोजाना 49 करोड़ ट्रांजेक्शन होते हैं। एनएसई का एक दिन का टर्नओवर 64 हजार करोड़ रुपये है। हर रोज बड़ी संख्या में इन्वेस्टर्स यहां ट्रेडिंग करते हैं।

Income tax raid at former NSE chairman Chitra Ramakrishna house

इतना बड़ा शेयर बाजार कई साल तक एक अज्ञात योगी के इशारे पर चल रहा था, यह सच जानकर सब चौंक गए थे। इस पूरे खेल में तीन मुख्य किरदार थे। पहली और सबसे अहम पात्र एनएसई की पूर्व सीईओ चित्रा रामकृष्णा (Chitra Ramkrishna) हैं। दूसरा पात्र अपनी शर्तों पर नौकरी का आनंद उठाने वाला आनंद सुब्रमण्यम (Anand Subramanian) है। तीसरा पात्र अज्ञात योगी है, जो कथित तौर पर हिमालय में रहता है और चित्रा के हिसाब से सिद्ध पुरुष है।

  • Share