कोरोना काल में किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

Supreme Court refuses to extend loan moratorium period

नई दिल्ली। किसान आंदोलन को लगभग एक महीने से भी ज्यादा समय हो गया है। किसान लगातार दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं। कोरोना महामारी के बीच इतनी बड़ी संख्या में लोग एक साथ मौजूद हैं। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने इसपर चिंता जताई है। सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि क्या किसान आंदोलन में कोरोना को लेकर क्या नियमों का पालन किया जा सकता है।

Supreme Court on Farmers Protest
कोरोना काल में किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने कहा कि हमें नहीं पता कि किसान कोविड से सुरक्षित हैं या नहीं? अगर नियमों का पालन नहीं किया गया तो तबलीगी जमात की तरह ही दिक्कत हो सकती है?

यह भी पढ़ें- काम के पैसे मांगे तो मालकिन ने कर दी नौकरानी की पिटाई

Supreme Court on Farmers Protest
कोरोना काल में किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि हम हालात के बारे में जानने की कोशिश करेंगे। सरकार को इस संबंध में जवाब दायर करने के लिए दो सप्ताह का वक्त मिला है।

यह भी पढ़ें- आज से धुंध और कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार

Supreme Court on Farmers Protest
कोरोना काल में किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

दरअसल सुप्रीम कोर्ट एक जनहित याचिका पर सुनाई कर रहा था। यह याचिका निजामुद्दीन स्थित मरकज केस और कोविड लॉकडाउन के दौरान भीड़ इकट्ठा करने की परमिशन देने को लेकर थी।