हरियाणा

गुजरात दंगों के बाद नरेंद्र मोदी को बदनाम करने की रची थी साजिश, सोनिया गांधी का था हाथ: बीजेपी

By Vinod Kumar -- July 16, 2022 3:33 pm

बीजेपी ने कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी पर कई बड़े और गंभीर आरोप लगाए हैं। बीजेपी का आरोप है कि गुजरात दंगों के बाद नरेंद्र मोदी को बदनाम करने और गुजरात सरकार को गिराने के लिए सोनिया गांधी ने साजिश रची थी।

साजिश के तहत सोनिया गांधी ने तीस्ता सीतलवाड़ को 30 लाख रुपये का भुगतान किया था, ताकि गुजरात के तत्कालिक सीएम को बदनाम किया जा सके। गुजरात दंगे को लेकर गठित एसआईटी द्वारा कोर्ट के सामने रखे गए एफिडेविट का हवाला देते हुए बीजेपी राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने सोनिया गांधी पर ये आरोप लगाए हैं।

पात्रा ने कहा कि ये पूरी साजिश सत्ता पाने के लिए रची गई थी। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपनी तिजोरी से तीस्ता सीतलवाड़ को पर्सनल यूज के लिए पैसे दिए थे। पात्रा ने ये भी आरोप लगाया कि इस पूरे काम को अहमद पटेल के जरिए किया गया था, लेकिन इसके पीछे सोनिया गांधी का ही हाथ थीं।

दरअसल, अहमद पटेल उस समय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार थे। संबित पात्रा ने कहा कि अहमद पटेल जी हमारे बीच नहीं है, लेकिन उन्होंने तो केवल पैसों की डिलीवरी की थी, इसलिए इस मामले पर सोनिया गांधी को सामने आकर अपनी बात रखनी चाहिए।

संबित पात्रा ने आगे कहा कि चोरी छिपे रात को सभी षड्यंत्रकारियों संजीव भट्ट, तीस्ता सीतलवाड़, श्रीकुमार ने अहमद पटेल के घर पर मुलाकात की थी। उसके बाद कांग्रेस के बड़े दिग्गज नेताओं से मिले, इस सब के पीछे एक ही मकसद था कि गुजरात की सरकार को गिरा सकें और नरेंद्र मोदी की छवि को खराब कर सकें।

बता दें कि शुक्रवार को एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ को 2002 में गुजरात सरकार को अस्थिर करने के लिए कांग्रेस से फंड मिला था। एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में ये खुलासा करते हुए कहा कि 2002 में गोधरा में ट्रेन जलने की घटना के तुरंत बाद तीस्ता सीतलवाड़ राज्य की चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने के लिए एक षड़यंत्र रच रही थी। इसके लिए विपक्ष पार्टी से उन्होंने फंड भी लिया था।

  • Share