ऑक्सीजन एक्सपोर्ट को लेकर सरकार पर दोषारोपण कर फंसे विपक्षी, सच्चाई आई सामने

ऑक्सीजन एक्सपोर्ट को लेकर सरकार पर दोषारोपण कर फंसे विपक्षी, सच्चाई आई सामने

नई दिल्ली। देश में ऑक्सीजन संकट के लिए विपक्षी दल सरकार को जिम्मेवार ठहरा है। विपक्षी दलों के नेताओं का कहना है कि भारत ने 2020-21 के बीच मेडिकल ऑक्सीजन का निर्यात किया है। हालांकि सच्चाई कुछ और ही है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया है कि 2020-21 के बीच औद्योगिक ऑक्सीजन का निर्यात किया गया है।

Maharashtra: 22 Covid patients die after oxygen tank leaks in Nashik hospitalसरकार की ओर से बताया गया है कि अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 तक 9884 मीट्रिक टन औद्योगिक ऑक्सीजन का निर्यात किया गया जबकि महज 12 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन का ही निर्यात किया गया। यह वार्षिक निर्यात क्षमता का 0.4 फीसदी ही था और अब मेडिकल ऑक्सीजन का निर्यात नहीं किया जा रहा है।
 बता दें कि सरकारी एजेंसी पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने भी इस संबंध में सरकार की ओर से स्पष्टीकरण जारी किया है। पीआईबी ने ट्वीट कर कहा है कि यह सूचना फेक है। औद्योगिक ऑक्सीजन के निर्यात को मेडिकल ऑक्सीजन का निर्यात समझ लिया गया है।

Covid-19 survivors may need just one shot of 2-dose vaccines: Studyयह भी पढ़ें- हरियाणा में खांसी-बुखार के इलाज से पहले करवाना होगा कोरोना टेस्ट

यह भी पढ़ें- अब एक क्लिक पर मिलेगी अस्पतालों में उपलब्ध बेड की जानकारी

Congress
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला सहित कई अन्य नेताओं ने आरोप लगाया था कि सरकार ने ऑक्सीजन का निर्यात किया है जबकि देश में इसकी आवश्यकता थी। हालांकि अब सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि मेडिकल ऑक्सीजन का निर्यात नहीं किया बल्कि औद्योगि ऑक्सीजन ही निर्यात की गई है।