कड़ी सुरक्षा के बीच पीपली से गुजरी सदा-ए-सरहद बस, 1999 में हुई थी शुरूआत

Bus Service
कड़ी सुरक्षा के बीच पीपली से गुजरी सदा-ए-सरहद बस, 1999 में हुई थी शुरूआत

कुरुक्षेत्र। (अशोक यादव) भारत-पाकिस्तान में चल रहे तनाव के बीच सदा-ए-सरहद बस के यात्रियों को प्रशासन ने पूरी सुरक्षा दी है। बस करीब 4:30 बजे 18 सवारियों को लेकर कुरुक्षेत्र के पीपली से गुजरी। पीपली पैराकीट में सवारियों को नाश्ता कराया जाता है। इसलिए बस यहां पर 45 मिनट के लिए रुकी। विवाद को देखते हुए बस की सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। पहले जहां बस को एक पायलट एस्कॉर्ट करती थी। इस बार तो पायलट और 30 पुलिस कर्मियों की टुकड़ी भी साथ चलती दिखीं। सुरक्षा कारणों की वजह से पुलिसकर्मियों ने सवारियों से बातचीत नहीं होने दी।

Bus Service
19 फरवरी 1999 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी बस सेवा की शुऊआत

आपको बताते चलें कि दिल्ली-लाहौर-दिल्ली (सदा-ए-सरहद) बस की शुरुआत 19 फरवरी 1999 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी। कारगिल युद्ध के समय में भी बस सेवा निर्विघ्न चलती रही। 13 दिसंबर 2001 में संसद पर हमले के बाद बस सेवा बंद कर दी गई थी, जिसे बाद में 16 जुलाई 2003 को शुरू किया गया। इस समय भारत-पाकिस्तान के बीच हालात ठीक नहीं है लिहाजा बस को कड़ी सुरक्षा के बीच चलाया जा रहा है। कुछ दिनों पहले इस बस को रोकने की कोशिश कुछ लोगों ने की थी।

यह भी पढ़ेंपेड़ से टकराई 70 छात्राओं से भरी हरियाणा रोडवेज की बस