शिक्षा

CM मनोहर लाल ने होनहारों को किया सम्मानित, बोले गरीब बच्चों को मिलेगी मुफ्त शिक्षा

By Poonam Mehta -- October 23, 2021 11:39 am -- Updated:October 23, 2021 12:04 pm

हरियाणा: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शुक्रवार को पंचकूला में छात्रों को लेकर एक बड़ी घोषणा की है। हरियाणा में परिवार पहचान पत्र के तहत सत्यापित गरीब परिवारों के बच्चों को मुफ्त शिक्षा दी जाएगी। परिवार पहचान पत्र के अन्तर्गत जिन परिवारों की सत्यापित आय 1.80 लाख रुपये प्रति वर्ष से कम है, ऐसे परिवारों के बच्चों को मुफ्त शिक्षा मिलेगी।

हरियाणा में गरीब परिवार का कोई भी प्रतिभावान छात्र अपने सपनों को पूरा करने से वंचित न रहे, इसके लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज घोषणा की कि परिवार पहचान पत्र के अन्तर्गत जिन परिवारों की सत्यापित आय 1.80 लाख रुपये प्रति वर्ष से कम है, ऐसे परिवारों के बच्चों को मुफ्त शिक्षा मिलेगी।

मुख्यमंत्री ने यह घोषणा शुक्रवार को पंचकूला में आयोजित सुपर 100 कार्यक्रम के तहत सिविल सेवा परीक्षा-2020 और जेईई एडवांस परीक्षा-2021  के उत्तीर्ण छात्रों के राज्य स्तरीय सम्मान समारोह के दौरान उनके साथ बातचीत करते हुए की।

मनोहर लाल ने छात्रों को बधाई देते हुए  कहा कि आप में से प्रत्येक को यह याद रखना चाहिए कि आपने समाज की सेवा के लिए यह करियर विकल्प चुना है। आपकी सेवा अवधि के दौरान आपको विविध क्षेत्रों में काम करने के असंख्य अवसर मिलेंगे। इसलिए उम्मीद है कि आप अपने स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर हरियाणा को गौरवान्वित महसूस करवाएंगे।

मुख्यमंत्री ने जेईई एडवांस-2021 में पास गरीब पृष्ठभूमि के 29 विद्यार्थियों का मनोबल भी बढ़ाया। उन्होंने कहा कि आप सभी एक उदाहरण हैं कि यदि किसी के पास प्रतिभा है, तो कोई भी आपको अपने सपनों को पूरा करने से नहीं रोक सकता, फिर चाहे कोई ग्रामीण आंचल से ही क्यों न हो।

Manohar Lal Khattar appealed to farmer leaders suspend protest amid covid19 spreadमनोहर लाल ने कहा कि 2014 में जब उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी, तब राज्य का समग्र और समान विकास सुनिश्चित करना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता थी। जिसके लिए राज्य सरकार द्वारा कई नई अनूठी योजनाएँ बनाई गई जो  मील का पत्थर साबित हुई।

सुपर-100 कार्यक्रम के तहत मुफ्त कोचिंग प्राप्त कर जेईई एडवांस परीक्षा में उत्तीर्ण विद्यार्थियों ने कहा कि शब्दों में मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त नहीं कर सकते। गरीब परिवार से संबंध रखने वाले अधिकांश छात्रों ने अपने अनुभव साझा किए कि कैसे वे हमेशा आईआईटी में प्रवेश पाने का सिर्फ सपना देखते थे, लेकिन उनकी वित्तीय स्थिति उन्हें जेईई जैसी प्रतियोगी परीक्षा को पास करने के लिए महंगी कोचिंग लेने से वंचित रखती थी।

-PTC NEWS

  • Share