बोर्ड चेयरमैन की बर्खास्तगी की मांग, सीएम से मिलेगी प्राईवेट स्कूल एसोसिएशन

Demand for dismissal of board chairman, private school association will meet CM

भिवानी। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष रामअवतार शर्मा ने कहा कि निजी स्कूल संचालकों पर लगाई गई जुर्माना राशि न भरने पर छात्रों का परीक्षा परिणाम रोकने की बात कहकर हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डॉक्टर जगबीर सिंह प्राइवेट स्कूल संचालकों को परेशान कर रहे हैं। जबकि बोर्ड चेयरमैन से प्राईवेट स्कूल एसोसिएशन की हुई वार्दा के दौरान बोर्ड चेयरमैन ने जुर्माना वापसी लेने की बात कही थी। लेकिन अब अपनी ही बात से मुकरते हुए बोर्ड चेयरमैन ने दोबारा से निजी स्कूलों को पांच हजार रुपये जुर्माना भरने को कहा है। यह न्याय संगत नहीं है। इसको लेकर प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन का पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल जल्द ही मुख्यमंत्री से मिलेगा और बोर्ड चेयरमैन को उनके पद से बर्खास्त करने की मांग करेगा।

यहां उल्लेखनीय होगा कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा ऐसे निजी स्कूलों पर पांच हजार रुपये जुर्माना लगाया था जो कि बोर्ड द्वारा लगाई गई ड्यूटी में नहीं पहुंचे। रामअवतार शर्मा के मुताबिक इस मामले में जब एसोसिएशन ने बोर्ड चेयरमैन से बातचीत की तो बोर्ड चेयरमैन डॉक्टर जगबीर सिंह ने पांच हजार रुपये जुर्माना वापस लेने का ऐलान एसोसिएशन के समक्ष किया था। अब गत दिवस बोर्ड चेयरमैन ने कहा था कि ऐसे प्राइवेट स्कूल जिन पर जुर्माना लगाया गया था तथा उन्होंने जुर्माना ऑनलाइन नहीं भरा है उन स्कूलों के छात्रों का परीक्षा परिणाम रोक लिया जाएगा। आज उसी विषय में प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने कड़ा विरोध जाहिर किया। एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष रामअवतार शर्मा ने यहां कृष्णा कॉलोनी स्थित शिशु भारती हाई स्कूल में पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि बोर्ड चेयरमैन डॉक्टर जगबीर सिंह निजी स्कूलों को डराने धमकाने का काम कर रहे हैं जबकि इस विषय में बोर्ड चेयरमैन ने जुर्माना माफ करने का ऐलान प्रतिनिधिमंडल के साथ हुई बैठक में किया था।

अब बोर्ड चेयरमैन ही अपनी बात से मुकर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी निजी स्कूल पांच हजार रुपये की जुर्माना राशि नहीं भरेगा और जिस स्कूल ने जुर्माना राशि जमा करवा दी है उसकी जुर्माने की राशि भी बोर्ड से वापिस करवाई जाएगी। राम अवतार शर्मा ने कहा कि बोर्ड चेयरमैन तानाशाही रवैया अपनाए हुए हैं जिसे किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज प्राइवेट स्कूलों की हालत खराब है। लॉकडाउन के चलते अभिभावक स्कूल में फीस जमा नहीं करवा रहे हैं जिसके कारण प्राइवेट प्राइवेट स्कूलों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि या तो प्रदेश सरकार अभिभावकों को तुरंत अपने बच्चों की स्कूल फीस जमा करवाने के आदेश दें या फिर प्राइवेट स्कूलों को भी राहत के तौर पर पैकेज देने का ऐलान करे।

—PTC NEWS—