किसानों ने दशहरे पर जलाए सरकार के पुतले

Govt Effigies Burnt
किसानों ने दशहरे पर जलाए सरकार के पुतले

फतेहाबाद। (साहिल रुखाया) कृषि कानून के विरोध में आज किसानों के द्वारा पूरे प्रदेश में रावण की जगह सरकार के पुतले जलाए गए। फतेहाबाद की रतिया खेती-बाड़ी बचाओ सभा और भूंदडवास गांव में भी किसान संघर्ष समिति के द्वारा रावण की जगह रावण के पुतले जलाए गए।

Govt Effigies Burnt
किसानों ने दशहरे पर जलाए सरकार के पुतले

किसानों के द्वारा पहले इन पुतलों को चप्पलों का हार पहनाया गया और उसके बाद इन्हें आग के हवाले किया गया। इस दौरान किसानों द्वारा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गई।

यह भी पढ़ें- पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु बोले- इस बार पिछले चुनाव की गलती नहीं करेगी बरोदा की जनता

Govt Effigies Burnt
किसानों ने दशहरे पर जलाए सरकार के पुतले

किसान संघर्ष समिति के संयोजक मंदीप सिंह ने बताया कि कृषि कानून को लेकर किसानों में काफी गुस्सा देखने को मिल रहा है और यही कारण है कि दशहरे के दिन रावण की जगह सरकार के पुतले जगह-जगह जलाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें- डिप्टी सीएम ने 42 महिला जनप्रतिनिधियों को स्कूटी देकर किया सम्मानित

Govt Effigies Burnt
किसानों ने दशहरे पर जलाए सरकार के पुतले

उन्होंने कहा कि इस कानून के खिलाफ आंदोलन को तेज किया जाएगा और किसी भी नेता को गांव में घुसने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला किसानों के बीच जाने की हिम्मत भी नहीं जुटा पा रहे हैं और आने वाले दिनों में किसान अपने आंदोलन को और तेज करेंगे यह आंदोलन एक बड़ा रूप ले रहा है।