Sun, May 19, 2024
Whatsapp

व्यक्तिगत डेटा की डार्क वेब बिक्री के लिए गिरफ्तारी के बाद TMC ने की मोदी सरकार की आलोचना

डार्क वेब पर भारतीयों के आधार और पासपोर्ट विवरण कथित तौर पर लीक करने के आरोप में चार व्यक्तियों की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने मोदी सरकार की भारी आलोचना की।

Written by  Rahul Rana -- December 18th 2023 11:07 AM
व्यक्तिगत डेटा की डार्क वेब बिक्री के लिए गिरफ्तारी के बाद TMC ने की मोदी सरकार की आलोचना

व्यक्तिगत डेटा की डार्क वेब बिक्री के लिए गिरफ्तारी के बाद TMC ने की मोदी सरकार की आलोचना

ब्यूरो : डार्क वेब पर भारतीयों के आधार और पासपोर्ट विवरण कथित तौर पर लीक करने के आरोप में चार व्यक्तियों की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने मोदी सरकार की भारी आलोचना की। टीएमसी सांसद साकेत गोखले ने सरकार पर आधार डेटा सुरक्षा के बारे में संसद में गलत जानकारी देने का आरोप लगाया और विसंगति के संबंध में जवाब मांगा है।

गोखले ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) डेटाबेस से संवेदनशील जानकारी लीक करने में शामिल व्यक्तियों की गिरफ्तारी पर प्रकाश डालते हुए आधार डेटा की सुरक्षा के संबंध में संसद में सरकार की प्रतिक्रिया पर सवाल उठाया। दिल्ली पुलिस साइबर यूनिट ने अपनी पहल पर कार्रवाई करते हुए लगभग दस दिन पहले चार व्यक्तियों को पकड़ा था। आधार और पासपोर्ट विवरण सहित लीक हुआ व्यक्तिगत डेटा कथित तौर पर आईसीएमआर डेटाबेस से उत्पन्न हुआ था और डार्क वेब पर बिक्री के लिए उपलब्ध था।


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस घटना को संभवतः भारत में 'सबसे बड़ा' डेटा लीक कहा गया है, जिसमें आईसीएमआर से प्राप्त 81.5 करोड़ से अधिक भारतीयों के व्यक्तिगत विवरण शामिल थे। इस उल्लंघन को शुरू में अमेरिकी साइबर सुरक्षा और खुफिया एजेंसी, रिसिक्योरिटी द्वारा चिह्नित किया गया था।

कांग्रेस सांसद मनिकम टैगोर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी के अलर्ट के बाद नागरिकों की डेटा सुरक्षा के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए इस मामले पर प्रकाश डाला। टैगोर ने संवेदनशील डेटा की समझौता प्रकृति और डेटा सुरक्षा उपायों में संभावित चूक पर जोर दिया।

इससे पहले, जुलाई में, गोखले ने सोशल मीडिया पर स्क्रीनशॉट साझा करते हुए कोविन टीकाकरण ट्रैकिंग प्लेटफॉर्म में उल्लंघन का आरोप लगाया था, जिसमें आधार कार्ड नंबर और वरिष्ठ राजनीतिक नेताओं के अन्य व्यक्तिगत विवरण शामिल थे। डेटा उल्लंघनों की बार-बार होने वाली इस घटना ने भारत में डेटा सुरक्षा और नागरिकों की गोपनीयता के बारे में चिंताएँ बढ़ा दी हैं।

- PTC NEWS

Top News view more...

Latest News view more...

LIVE CHANNELS
LIVE CHANNELS