सेलजा ने विधायकों से की अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील

Kumari Selja Appealed to MLA
सेलजा ने विधायकों से की अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील
चंडीगढ़। हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सेलजा ने कहा कि कृषि विरोधी काले कानूनों को लेकर देश के किसानों के साथ आज पूरे हरियाणा प्रदेश के किसान भाजपा सरकार के खिलाफ आंदोलनरत हैं। किसान आंदोलन को 100 दिन से ज्यादा हो चुके हैं। 200 से ज्यादा किसान इस आंदोलन में शहीद हो चुके हैं। लेकिन सरकार सत्ता के अहंकार में चूर होकर हठधर्मिता पर अड़ी हुई है।

Kumari Selja Appealed to MLA
सेलजा ने विधायकों से की अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील

उन्होंने अपील करते हुए कहा कि हरियाणा में कांग्रेस पार्टी द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर हरियाणा प्रदेश के किसान हितैषी भाजपा-जजपा और निर्दलीय विधायक अपनी अंतरात्मा की आवाज को सुनते हुए ‘किसान-मजदूर विरोधी’ हरियाणा की भाजपा सरकार का साथ छोड़कर इस निर्णायक लड़ाई में अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन कर किसानों का साथ दें। दरअसल सेलजा चंडीगढ़ स्थित हरियाणा कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में बोल रहीं थी।

Kumari Selja Appealed to MLA
सेलजा ने विधायकों से की अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील

सेलजा ने इस दौरान कहा कि हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए प्राइवेट सेक्टर की नई नौकरियों में स्थानीय युवाओं को 75 प्रतिशत आरक्षण का सिर्फ ढोंग पीट रही है। इस फैसले से ना तो प्रदेश का युवा खुश है, ना ही उद्योग धंधे चला रहे लोग। इस सरकार ने फिर एक बार प्रदेशवासियों को जुमला और धोखा दिया है। अपनी विफलताओं से ध्यान बांटने के लिए नए-नए जुमले देना इस सरकार का मार्का बन गया है। खुद भाजपा की नेता और केंद्र में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ही इस फैसले को समझ से परे बता रही हैं।

यह भी पढ़ें- बारात से लौट रही कार पेड़ से टकराई, दो युवकों की हुई मौत

यह भी पढ़ें- किसानों के हित में सरकार का फैसला, दस दिन पहले शुरू होगी गेहूं की सरकारी खरीद

Kumari Selja Appealed to MLA
सेलजा ने विधायकों से की अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील

पूरे विधेयक में ये रास्ता दिया गया है कि कंपनी को अगर खास स्किल का हरियाणा का नौजवान रोजगार के लिए नहीं मिलता तो बाहरी को रख सकते हैं। इस तरह कोई भी उद्योग बहाना बनाकर स्थानीय युवाओं को आरक्षण से वंचित कर सकता है।