परीक्षा केंद्रों को लेकर प्राइवेट स्कूल व शिक्षा बोर्ड में ठनी

Private school and education board face to face over examination centers
परीक्षा केंद्रों को लेकर प्राइवेट स्कूल व शिक्षा बोर्ड में ठनी

भिवानी। (कृष्ण सिंह) हर साल की तरह एक बार फिर इस बार भी हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की वार्षिक परीक्षाओं पर बोर्ड व प्राइवेट स्कूलों की तनातनी के चलते खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। प्राईवेट स्कूलों के परीक्षा केंद्र दूसरे गांवों में बनाने से नाराज प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने बोर्ड प्रशासन से बैठक में कहासुनी तक की। हालांकि इस पर बोर्ड प्रशासन ने परीक्षा केंद्र नियमों के मुताबिक बनाने की दो टूक बात करते हुए सख्ती दिखाई है और प्राइवेट स्कूलों पर पांच-पाच हजार रुपये जुर्माने की बात कही है।

Private school and education board face to face over examination centers
परीक्षा केंद्रों को लेकर प्राइवेट स्कूल व शिक्षा बोर्ड में ठनी

बता दें कि 3 मार्च से हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की 10वीं व 12वीं की वार्षिक परीक्षाएं होने जा रही हैं। इन परीक्षाओं में प्रदेश भर के सरकारी व प्राईवेट स्कूलों के 8-9 लाख बच्चे परीक्षाएं देंगें। परीक्षा केंद्रों को लेकर प्राइवेट स्कूल एसोसिशन व शिक्षा बोर्ड प्रशासन में खींचतान हो गई है। प्राईवेट स्कूल एसोशिएशन का आरोप है कि शिक्षा बोर्ड ने भेदभाव करते हुए सरकारी स्कूलों के बच्चों के परीक्षा केंद्र ना केवल उसी गांव में बल्कि उन्हीं के स्कूलों में बनाए हैं और प्राइवेट स्कूलों के परीक्षा केंद्र दूसरे गांवों में बनाए हैं। इसको लेकर एसोसिएशन के पदाधिकारी शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन व सचिव से मिलने पहुंचे। इस दौरान एसोसिएशन पदाधिकारियों व बोर्ड चेयरमैन के बीच खूब खींचतान हुई और बोर्ड चेयरमैन बीच में ही उठ कर चल दिए।

Private school and education board face to face over examination centers
परीक्षा केंद्रों को लेकर प्राइवेट स्कूल व शिक्षा बोर्ड में ठनी

वहीं शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डॉ. जगबीर सिंह ने बताया कि बोर्ड ने सभी परीक्षा केंद्हरों को नियमों के मुताबिक बनाया है। उन्होंने कहा कि जो स्कूल या पंचायत अपने यहां परीक्षा केंद्र बनवाना चाहता हैं उसके नियम हैं। उसके मुताबिक किसी प्राइवेट स्कूल ने आवेदन नहीं किया। साथ ही चेयरमैन ने कहा कि अभी किसी को पता नहीं कि किसके परीक्षा केंद्र कहां हैं। ये सब कंप्यूटर द्वारा अलॉट किए जाएंगे। साथ ही कहा कि एसो. की मांग पर विचार किया जाएगा।

अब देखना होगा कि एसो. व बोर्ड प्रशासन की खींचतान का कब और कैसे समाधान होता है। पर इतना जरूर है कि ये खींचतान लंबी चली तो कहीं ना कहीं खामियाजा निजी स्कूलों व उनके बच्चों को उठाना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: पंजाब में स्कूल वैन हादसे के बाद जागी पुलिस, स्कूल वाहनों की चैकिंग कर जांची सुविधाएं

—PTC NEWS—