स्कूल बंद करने के सरकार के फैसले पर भड़की निजी स्कूल एसोसिएशन

School Closed in Haryana
स्कूल बंद करने के सरकार के फैसले पर भड़की निजी स्कूल एसोसिएशन

भिवानी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कक्षा 1 से 8 तक सभी स्कूल बंद किये जाने के आदेश दिए हैं। उन आदेशों का अब निजी स्कूल संचालक खुलकर विरोध कर रहे हैं। निजी स्कूल संचालकों ने प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के बैनर तले प्रदेश स्तरीय एक बैठक का आयोजन किया। बैठक में प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष रामावतार शर्मा की अगुवाई में आयोजित इस बैठक में प्रदेश सरकार पर स्कूलों की अनदेखी के आरोप जड़े। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने उनके प्रतिनिधिमंडल से बातचीत के बिना ही स्कूलों में 30 अप्रैल तक बन्द करने का आदेश दे दिए। जिसका वे विरोध करेंगे।

School Closed in Haryana
स्कूल बंद करने के सरकार के फैसले पर भड़की निजी स्कूल एसोसिएशन

यह भी पढ़ें- देशभर में लागू होगी स्वामित्व योजना, 24 अप्रैल को पीएम मोदी करेंगे शुभारंभ

यह भी पढ़ें-किसानों के मसले पर केंद्रीय कृषि मंत्री को खत लिखेंगे अनिल विज 

School Closed in Haryana
स्कूल बंद करने के सरकार के फैसले पर भड़की निजी स्कूल एसोसिएशन

राम अवतार शर्मा ने कहा कि सरकार निजी स्कूलों पर अपने आदेश थोप कर उन्हें बन्द करने की तैयारी में है। उन्होंने कहा कि सरकार के अधिकारी अपनी बात थोप देते हैं जिसकी मुख्यमंत्री व मंत्रियों को जानकारी तक नहीं होती। उन्होंने कहा कि वे अब सोमवार से स्कूलों में कोई छुट्टी नहीं करेंगे बल्कि व्यवस्था दुरुस्त करके स्कूलों को खोलेंगे।

उन्होंने कहा कि सरकार 1 से 8 तक के स्कूल बंद करने की बात कह रही है क्या 10वीं के बच्चे को कोरोना नहीं हो सकता। साथ ही उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल से प्रदेश भर में बोर्ड की परीक्षा है। ऐसे में बच्चे उनके स्कूलों में परीक्षा देने के लिए आएंगे जब उनके स्कूलों में कोरोना का खतरा है तो क्या उन बच्चों को कोरोना नहीं हो सकता। उन्होंने ऐलान किया कि वे बोर्ड परीक्षा में भी बोर्ड का साथ नहीं देंगे और परीक्षा के संचालन में कोई सहयोग उनकी तरफ से नहीं होगा।

School Closed in Haryana
स्कूल बंद करने के सरकार के फैसले पर भड़की निजी स्कूल एसोसिएशन

रामावतार शर्मा ने कहा कि इसी कड़ी में 12 अप्रैल को वे बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ से मुलाकात करेंगे और अपनी तकलीफ उन्हें बताएंगे। उन्होंने बताया कि 15 अप्रैल को वे पूरे प्रदेश में अपने स्कूलों के बसों की चाबियां डीसी को सौप देंगे और पूरा दिन डीसी कार्यालय के बाहर सांकेतिक रूप से धरना भी देंगे।