कुछ हटके

संसद भवन परिसर से बंदरों को भगाने के लिए 4 लोग निकालेंगे लंगूर की आवाज, 17,990 रुपये मिलेगा वेतन

By Vinod Kumar -- June 28, 2022 2:24 pm

शिमला और अन्य पर्यटक स्थलों पर आप बंदरों के उत्पात से परिचित होंगे ही, लेकिन देश के संसद भवन का परिसर भी बंदरों के आंतक से नहीं बच पाया है। अब संसद भवन परिसर में उत्पात मचाने वाले बंदरों को भगाने के लिए ऐसे चार लोगों को नियुक्त किया गया है जो लंगूर की आवाज निकाल कर और दूसरे तरीकों से बंदरों को भगाने का काम करेंगे।

संसद सुरक्षा सेवा के परिपत्र से यह जानकारी मिली है। परिपत्र के मुताबिक बंदरों के उत्पात को नियंत्रित करने के लिये संसद सुरक्षा सेवा ने चार लोगों को नौकरी पर रखा है। संसद में बंदरों को भगाने के लिये सेवा पर रखे गए एक कर्मी ने मीडिया को बताया कि पहले बंदरों को भगाने के लिये लंगूर को रखा जाता था, लेकिन अब इस पर प्रतिबंध लग गया है। हमें संसद भवन परिसर में बंदरों को भगाने के लिये अनुबंध पर रखा गया है।

नौकरी पर रखे गए कर्मचारी ने बताया कि हम लंगूर की आवाज निकालकर और दूसरे तरीकों से बंदरों को भगाने का काम करते हैं। बंदरों को भगाने के लिये कुशल और अकुशल कर्मी है। कुशल कर्मियों को 17,990 रूपये और अकुशल कर्मियों 14,900 रूपये प्रतिमाह वेतन मिलता है।

संसद सुरक्षा सेवा द्वारा 22 जून को जारी परिपत्र में कहा गया है कि संसद भवन परिसर में बंदरों की अक्सर मौजूदगी देखी गई है। भवन की देखरेख करने वाले कुछ कर्मियों द्वारा खानपान की बची हुई चीजों को कूड़ेदान एवं खुले में फेंका जाता है।

परिपत्र में कहा गया है कि खानपान की बची हुई चीजों को कूड़ेदान एवं खुले में फेंकना बंदरों, बिल्लियों और चूहों को आकर्षित करने का एक प्रमुख कारण हो सकता है । परिपत्र में सभी संबंधित पक्षों को सुझाव दिया गया है कि वे खानपान की बची हुई चीजें इधर उधर नहीं फेंके।

  • Share