हरियाणा

मूसलाधार बारिश में तालाब बनीं गुरुग्राम की सड़कें, कई फुट तक भरा पानी

By Vinod Kumar -- July 30, 2022 1:07 pm -- Updated:July 30, 2022 1:08 pm

गुरुग्राम/नीरज वशिष्ठ: मूसलाधार बारिश के बाद साइबर सिटी गुरुग्राम में बाढ़ के हालात नजर आए। शहर की सड़़कें जलमग्न हो गई। सड़क के किनारे खड़ी गाड़ियां पानी में पूरी तरह से डूब गई।

मूसलाधार बारिश ने जिला प्रशासन के उन तमाम दावों की पोल खोल कर रख दी जिसमे दावा किया गया था की इस बार की मॉनसूनी बारिश के दौरान जल भराव जैसी स्थिति में लोगों और वाहन चालकों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा, लेकिन वजीराबाद तहसील के ग्वाल पहाड़ी इलाके में हुई 65 एमएम बारिश ने प्रशासनिक दावो की पोल खोल कर रख दी।
 
दरअसल 2016 के महाजाम की फजीहत के बाद से शहर के ड्रेनेज पर करोड़ों रुपये खर्च किये जा चुके हैं, जिसमे बादशाहपुर ड्रेन से लेकर फ्लाईओवर और अंडरपास के निर्माण के साथ साथ गोल्फ कोर्स से सटी अरावली की श्रृंखलाओं पर चेक डैम जैसी व्यवस्था भी बनाई गई है। इसके बाद दावा किया गया कि अत्यधिक बारिश की स्थिति में चेक डैम अरावली के बरसाती पानी को गोल्फ कोर्स रोड पर आने नहीं देंगा।

करोड़ों की लागत से बादशाहपुर ड्रेन बनाया गया और दावा किया गया कि अरावली का बरसाती पानी बॉक्स ड्रेन के जरिये सीधे नजफगढ़ ड्रेन में जाकर गिरेगा, लेकिन साल दर साल कभी अंडर पास में तो कभी शहर के कई हिस्सों में हुए जल भराव ने जिला प्रशासन के साल दर साल किए जा रहे दावों की पोल खोल उन्हें फिर से मानसून में पुख्ता तैयारी के लिए सोचने पर मजबूर कर दिया है।

आपको बता दें की यह हालात भी तब है जब बीते चार साल से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खुद ग्रीवेंस कमेटी के चेयरमैन हैं और इस बार भी सीएम साहब ने अधिकारियों को मॉनसूनी बारिश और जल भराव जैसी स्थिति को लेकर आदेश जारी किए थे लेकिन नतीजा वही ढाक के तीन पात जैसा सामने आ रहा है।

  • Share