हरियाणा

जल्द जनता के लिए खुलेगा एशिया का सबसे ऊंचा गीता ज्ञान मंदिर, 18 मंजिला है ये भवन

By Vinod Kumar -- July 17, 2022 1:54 pm -- Updated:July 17, 2022 1:54 pm

कुरुक्षेत्र/अशोक यादव: एशिया के सबसे ऊंचे 18 मंजिला गीता ज्ञान मंदिर को जनता के लिए खोलने की तैयारी शुरू हो गई है। 18 मंजिला गीता ज्ञान मंदिर के कपाट इस वर्ष गीता जयंती पर खुलने जा रहे हैं। ब्रह्मपुरी क्षेत्र में हुई मंदिर के ट्रस्ट पदाधिकारियों की बैठक में ये फैसला लिया गया है।

श्री ब्रह्मपुरी अन्क्षेत्र आश्रम ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं दिल्ली की केजरीवाल सरकार में कोऑपरेटिव हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन के चेयरमैन राजेश गोयल ने बताया कि एशिया की सबसे ऊंचे 18 मंजिला गीता ज्ञान मंदिर को जनता के लिए खोलने की तैयारी की गई है और इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव पर इस मंदिर के एक भाग को खोला जाएगा।18 मंजिला ज्ञान मंदिर के अंदर चल रहे निर्माण कार्य को अंतिम रूप दिया जा रहा है और इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव पर इस मंदिर के एक भाग के कपाट को खोला जाएगा।

ज्ञान मंदिर को एशिया के सर्वश्रेष्ठ मंदिर की तर्ज पर बनाया जा रहा है। श्री ब्रम्हपुरी अन्नक्षेत्र ट्रस्ट द्वारा मंदिर का निर्माण हो रहा है। यह एशिया के सबसे बड़े ब्रह्मसरोवर के तट के पास बना हुआ है, जिसमें एक भाग के कपाट खोलने के लिए अंतिम रूप दिया जा रहा है।

दिल्ली से कुरुक्षेत्र पहुंचे राजेश गोयल ने बताया कि धर्म नगरी कुरुक्षेत्र में 3 एकड़ भूमि में 18 मंजिला ज्ञान मंदिर का निर्माण कराया जा रहा है। कुरुक्षेत्र की प्रतिष्ठा के अनुसार गीता के 18 अध्याय, 18 अक्षोहिणी सेना, महाभारत के 18 दिनों का युद्ध इस मंदिर में देखने को मिलेगा।

श्रीकृष्ण भगवान ने कुरुक्षेत्र की धरती पर अर्जुन को निमित कर सृष्टि को गीता का पाठ पढ़ाया था। गीता के 18 अध्यायों में हर चीज पर विस्तार से कहा गया है। गीता के ज्ञान को देश और दुनिया तक पहुंचाया जा रहा है। इसको आस्था के रूप भी अपनाने की जरूरत है।

राजेश गोयल ने बताया कि गीता पर आधारित 18 मजिला मंदिर बन रहा है जिसमें हर मंजिल पर गीता के हर अध्याय का वर्णन होगा। जल्द से जल्द सब कुछ तैयार हो इसको लेकर एक बैठक भी की गई है। 17 वी मंजिल से दूर दराज से आने वाले लोग भगवान श्री कृष्ण के दर्शन भी कर सकेंगे। कोरोना महामारी की वजह से मंदिर निर्माण में समय लगा है और अब काम सुचारु रुप से चल पड़ा है।

  • Share