बज गया विधानसभा चुनाव का बिगुल, हरियाणा में इस दिन होगा मतदान

Election Commissioner
बज गया विधानसभा चुनाव का बिगुल, हरियाणा में इस दिन होगा मतदान

नई दिल्ली। हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Election) का बिगुल बज गया है। चुनाव आयोग ने दोनों राज्यों के लिए चुनावी कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। शनिवार को नई दिल्ली में पत्रकार वार्ता में मुख्य चुनाव आयुक्त (Chief Election Commissioner) सुनील अरोड़ा ने बताया कि दोनों राज्यों में 21 अक्तूबर को मतदान होगा जबकि 24 अक्तूबर को वोटों की गिनती की जाएगी।

Election Commissioner
बज गया विधानसभा चुनाव का बिगुल, हरियाणा में इस दिन होगा मतदान

यह भी पढ़ें : चुनाव की घोषणा से ठीक पहले कांग्रेस और इनेलो को बीजेपी ने दिया झटका (VIDEO)

haryana map
बज गया विधानसभा चुनाव का बिगुल, हरियाणा में इस दिन होगा मतदान

हरियाणा विधानसभा पर नजर डालें तो यहां पर 90 विधानसभा सीटें हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी (BJP) 33.20 फीसदी वोट के साथ 47 सीटें जीती थी। बीजेपी ने मनोहर लाल खट्टर (Manohar lal Khattar)को राज्य की कमान थमाई थी। जबकि कांग्रेस 24.20 फीसदी वोट के साथ 17 सीट, इनेलो 24.10 फीसदी वोट के साथ 19 सीट, बसपा 4.40 फीसदी वोट के साथ एक सीट और अकाली दल ने 0.60 फीसदी वोट के साथ एक सीट जीती थी। वहीं, 10.60 फीसदी वोट के साथ पांच सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीतने में कामयाब रहे थे।

पिछली बार हरियाणा विधानसभा चुनाव 2014 की तारीखों की अधिसूचना शनिवार 20 सितम्बर 2014 को जारी की गई थी। मतदान 15 अक्टूबर 2014 को करवाया गया और वोटों की गिनती रविवार 19 अक्टूबर 2014 को हुई थी। विधानसभा की कुल 90 सीटों के चुनाव परिणाम इस तरह से रहे

पार्टी 2014-में जीती हुई सीटें 2009 में जीती हुई सीटें
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 47 सीटें (33.2 प्रतिशत मत) 4 सीटें (9.04 प्रतिशत)
इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) 19 सीटें (24.1 प्रतिशत मत) 31 सीटें (25.79 प्रतिशत मत)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 15 सीटें (20.6 प्रतिशत मत) 40 सीटें (35.08 प्रतिशत)
हरियाणा जनहित कांग्रेस 2 सीटें (3.6 प्रतिशत मत ) 6 सीटें (7.40 प्रतिशतमत)
निर्दलीय एवं अन्य  7 सीटें (18.5 प्रतिशत मत) 9 सीटें (22.7 प्रतिशत मत)

 

इन पांच सालों में प्रदेश के राजनीतिक समीकरण काफी बदल गए हैं। कई दलों का विलय हो गया तो चौटाला परिवार की अंतर्कलह के कारण एक नए दल जननायक जनता पार्टी का उदय हुआ। जिस कारण इनेलो पार्टी बिखर गई। वहीं कई विधायकों ने 2019 लोकसभा चुनाव के बाद बीजेपी के बढ़ते कद को देखते हुए अपना पासा पलट लिया और पार्टी ज्वाइन कर ली। इस दलबदल के कारण हरियाणा विधानसभा की स्थिति काफी बदल गई है।

यह भी पढ़ें : रोजगार देने में विफल सरकार अब बेरोजगारों को दर-दर की ठोकरें खिला रही : दुष्यंत

वहीं महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा में 288 सीटें हैं। 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 27.8 फीसदी वोट के साथ 122 सीटें जीती थीं और शिवसेना ने 19.3 फीसदी वोट के साथ 63 सीटों पर जीत हासिल की थी। महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना मिलकर सरकार चला रहे हैं। इस बार बीजेपी सीएम देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में अपने दम पर सत्ता में काबिज होने की कोशिश में है।

—PTC NEWS—