अब दुष्यंत चौटाला और रणजीत चौटाला के आवास का घेराव करेंगे किसान

Farmers to protest in front of residences of Dushyant and Ranjit Chautala

सिरसा। (सुरेंद्र सावंत) केंद्र सरकार द्वारा पारित किये गए तीन कृषि बिलों के विरोध में आज किसानों की एक मीटिंग सिरसा की जाट धर्मशाला में हुई। मीटिंग में विभिन्न किसान संगठनों से जुड़े प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। मीटिंग में आगामी 6 अक्टूबर को सिरसा में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और बिजली मंत्री रणजीत सिंह के आवास का घेराव करने की रणनीति बनाई गई।

Farmers to protest in front of residences of Dushyant and Ranjit Chautala

educareकिसानों का कहना है कि जिस प्रकार पंजाब में अकाली दल ने बीजेपी का साथ छोड़ किसानों का साथ देने का फैसला लिया है। उसी तरह हरियाणा में भी दुष्यंत चौटाला को किसानों का साथ देना चाहिए। इसी रणनीति के तहत उनपर दबाव बनाने के लिए उनके घर का घेराव किया जाएगा। यदि फिर भी उनकी सुनवाई नहीं होती तो किसान दिल्ली कूच करेंगे और आंदोलन तेज करेंगे। वहीं उनके आंदोलन को समर्थन करने के लिए पंजाब से पंजाबी सिंगर भी 6 अक्टूबर को उनके आंदोलन में शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें: बरोदा उपचुनाव की तारीखों की घोषणा, इस दिन होगी वोटिंग

यह भी पढ़ें: …जब हरियाणा पुलिस ने यूपी पुलिस को हिरासत में ले लिया!

Farmers to protest in front of residences of Dushyant and Ranjit Chautala

हरियाणा किसान मंच के प्रदेशाध्यक्ष प्रह्लाद सिंह भारूखेड़ा ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कृषि बिलों को लेकर पूरे देश में किसान आंदोलन चल रहा है। इसी के चलते सिरसा में भी 6 अक्टूबर को उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और हरियाणा के बिजली मंत्री रणजीत सिंह के घरों का घेराव किया जाएगा ताकि उनपर दबाव बन सके और वो बीजेपी का साथ छोड़ कर किसानों का साथ दे।

Farmers to protest in front of residences of Dushyant and Ranjit Chautala

उन्होंने कहा कि किसानों के वोट के दम पर ही आप विधानसभा पहुंचे हो और जो बीजेपी किसान विरोधी बिल बनाती है आप उसी पार्टी का साथ दे रहे हो। भारूखेड़ा ने कहा कि इस वक्त अगर देवी लाल होते तो वो भी किसानों के साथ खड़े होते इसलिए इन्हें भी किसानों का साथ देना चाहिए। प्रह्लाद सिंह भारूखेड़ा ने कहा कि पंजाब में पंजाबी सिंगर भी किसानों का समर्थन कर रहे हैं जिसके चलते कुछ पंजाबी सिंह 6 अक्टूबर को सिरसा में उनके आंदोलन में भाग लेने के लिए भी आएंगे।